image

लंदन : एजुकेशन फील्ड में अपने बच्चों का कॅरियर बनाने को लेकर भारतीयों का रुख सबसे अधिक सकारात्मक रहता है। ब्रिटेन स्थित वर्के फाउंडेशन द्वारा गुरुवार को ‘ग्लोबल टीचर स्टेटस इंडेक्स (जीटीएसआई) 2018’ को रिलीज किया गया और इसमें दुनिया के 35 देशों में समाज में शिक्षकों के बारे में सोच का समावेशी अध्ययन किया गया। 

'देश छोड़ने वाले' बयान पर हुए विवाद पर विराट कोहली ने दी सफाई, कही ये बात...

इसमें खुलासा किया गया कि आधे से अधिक 54 प्रतिशत भारतीय लोग अपने बच्चों को प्रोत्साहित करते हैं कि वे शिक्षक का कॅरियर चुने जबकि चीन में यह 50 प्रतिशत था। 
 तुलनात्मक रूप से करीब 23 फीसदी ब्रिटिश लोग अपने बच्चों को शिक्षक का कॅरियर चुनने के लिए प्रोत्साहित करते हैं जबकि रूस में छह प्रतिशत लोग ही बच्चों को शिक्षक बनने के लिए प्रोत्साहित करते है।

दिवाली के पटाखों से दिल्ली की हवा हुई बेहद जहरीली

संपूर्ण अध्ययन के मुताबिक ‘गलोबल टीचर स्टेटस इंडेक्स 2018’ में शामिल 35 देशों में भारत आठवें पायदान पर रहा जबकि चीन शीर्ष स्थान पर रहा और ब्राजील अंतिम पायदान पर रहा। इंडेक्स में पहली दफा शिक्षक के स्तर और छात्र के प्रदर्शन के बीच सीधा संबंध होने की बात कही गयी है। वर्के फाउंडेशन के संस्थापक और भारतीय मूल के उद्यमी सनी वर्के ने बताया, ‘जब हमने पांच साल पहले ‘ग्लोबल टीचर स्टेटस इंडेक्स’ शुरू किया था तब पूरी दुनिया में लोग शिक्षकों की गिरते स्तर को लेकर चिंतित थे।’

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: 54% indians wants their kids to become teachers

More News From eknazar

Advertisement
Advertisement
free stats