image

नई दिल्ली: शिरोमणि अकाली दल के नेता नरेश गुजराल ने कहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में चुनाव पूर्व गठबंधन बनाकर जीतने के लिए भाजपा की मौजूदा सरकार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जैसे व्यवहार (वाजपेयी टच) की जरूरत है। पंजाब से राज्यसभा सदस्य गुजराल एक पत्रकार की किताब के विमोचन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। गुजराल ने कहा, एन.डी.ए. की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि वह किस तरह का चुनाव पूर्व गठबंधन तैयार कर पाता है। यदि वे अपने मौजूदा साङोदारों को साथ रखने और कुछ अन्य को साथ लाने में कामयाब होते हैं, तो अहम है कि भाजपा अपने सहयोगियों से सहृदयता से पेश आए। यहां वाजपेयी जैसे व्यवहार (वाजपेयी टच) की जरूरत होगी। उन्होंने कहा, मुङो यकीन है कि शिवसेना उनके साथ रहेगी, बशर्ते वह उनसे ज्यादा सीटें नहीं मांगे। मुङो यकीन है कि नीतीश कुमार अपने हिस्से की सीटें मांगेंगे और मुङो यकीन है कि यदि उन्होंने हमसे (शिअद) एक भी सीट और मांगी तो हम इंकार कर देंगे। विमोचन कार्यक्रम में चर्चा का विषय था कि ‘2019 के चुनाव कौन जीतेगा?’। 

2014 के आम चुनाव में चंद्रबाबू नायडू की अहम भूमिका रही

साल 2014 के आम चुनाव में एन.डी.ए. की ठोस जीत को याद करते हुए गुजराल ने कहा कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के साथ आखिरी पलों में हुए गठबंधन के कारण भाजपा 282 का आंकड़ा छू पाई। निजी तौर पर मेरा मानना है कि यदि नायडू गठबंधन में शामिल नहीं हुए होते तो भाजपा 282 का आंकड़ा नहीं छू पाती। नायडू की तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने बीते 16 मार्च को भाजपा से अपना 4 साल का गठबंधन खत्म कर लिया और एन.डी.ए. से अलग हो गई। आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इंकार के कारण तेदेपा ने एन.डी.ए. से नाता तोड़ा।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: BJP needs Vajpayee Touch to win the 2019 election said by Naresh Gujral

More News From national

Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats