image

नई दिल्लीः 2019 लोकसभा चुनाव के लिए 6 चरणों में मतदान हो चुके है। आज अंतिम चरण के लिए मतदान होने जा रहे हैं। जिसमें 59 सीटों पर वोट जाले जाएंगे।अंतिम चरण के मतदान के बाद 23 मई को लोकसभा चुनाव ने नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे। अपने अंतिम चरण में पहुंच चुका है और सियासी दल भी 'रिजल्ट मोड' में आ गए हैं। जहां पर चुनाव हो चुके हैं वहां लोगों को अब 23 मई का बेसब्री से इंतजार है। उससे पहले शनिवार को देशभर में अलग ही हलचल देखने को मिली। पीएम मोदी केदारनाथ धाम में हैं तो वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली में बैठकें करते रहे। रविवार को ही पणजी विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव होगा जो पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद खाली हो गई थी। इसके साथ ही तमिलनाडु की चार विधानसभा सीटों-सुलूर, अरवाकुरुचि, ओत्तापिदरम (सुरक्षित) और तिरुपरकुंद्रम पर भी रविवार को उपचुनाव होगा। 

यहां जाने आखिरी चरण में कहां-कहां वोटिंगः
8 राज्यों की 59 सीटों पर करीब 10.17 करोड़ मतदाता रविवार को 918 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। निर्वाचन आयोग ने मतदान सुगम तरीके से संपन्न कराने के लिए 1.12 लाख मतदान केंद्र बनाए हैं। सातवें चरण में जिन राज्यों में मतदान होगा, उसमें पंजाब (13), उत्तर प्रदेश (13), पश्चिम बंगाल (9), बिहार (8), मध्य प्रदेश (8), हिमाचल प्रदेश (4), झारखंड (4), चंडीगढ़ (1) शामिल हैं। अंतिम चरण की महत्वपूर्ण सीटों की बात करें तो इसमें वाराणसी सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां से दोबारा चुनावी मैदान में हैं। उनका मुकाबला कांग्रेस के अजय राय और एसपी उम्मीदवार शालिनी यादव से है। यहां जाने लोकसभा चुनाव के लिए हॉट सीटों के बारे में कुछ जानकारी। 

वाराणसीः बीजेपी वाराणसी से पीएम मोदी के लिए बड़े अंतर से जीत सुनिश्चित करने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि लोग कुछ सवाल उठा सकते हैं, लेकिन वास्तव में वाराणसी में कोई मुकाबला नहीं है। मोदी ने अपने नामांकन के दिन यहां एक रोड शो किया था। वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी अपने प्रत्याशी अजय राय के समर्थन में रोड शो किया था। बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने शालिनी यादव के समर्थन में एक संयुक्त रैली आयोजित की थी। 

गाजीपुरः मुख्य उम्मीदवार : मनोज सिन्हा (बीजेपी), अफजाल अंसारी (BSP) 
- मनोज सिन्हा अपने विकास कार्यों और प्रधानमंत्री मोदी की छवि पर निर्भर हैं तो अंसारी एसपी-बीएसपी के सामाजिक संयोजन की वजह से मजबूत दिख रहे हैं। अंसारी जेल में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी के भाई हैं, जिन्हें अब भी अच्छा स्थानीय समर्थन प्राप्त है। 

गोरखपुरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीट रही गोरखपुर से इस बार भोजपुरी स्टार रवि किशन बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उनका सामना एसपी के रामभुआल निषाद और कांग्रेस के मधुसूदन त्रिपाठी से है। यहां मुख्य मुकाबला किशन और गठबंधन के प्रत्याशी निषाद के बीच माना जा रहा है। 

पटना साहिब (बिहार) 
पटना साहिब से मुख्य उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद जो कि बीजेपी के उम्मीदवार हैं और शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस के उम्मीदवार के तोर पर चुनाव लड़ रहे हैं। शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी के टिकट पर इस सीट पर जीत दर्ज की थी, लेकिन इसबार वह कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर लड़ रहे हैं।

आरा (बिहार) 
आरा बिहार से मुख्य उम्मीदवार राजकुमार सिंह बीजेपी और राजू यादव भाकपा माले हैं। आरा एकमात्र सीट है जिसके लिए लालू प्रसाद की अगुआई वाली RJD ने भाकपा-माले के लिए सीट छोड़ी थी। राजू यादव का यहां सीधा सामना बीजेपी के उम्मीदवार और मौजूदा सांसद राजकुमार सिंह से है। पूर्व केंद्रीय गृह सचिव ऊर्जा क्षेत्र में अपने विकास कार्य और मोदी की छवि पर निर्भर हैं। 

बक्सर (बिहार) 
बक्सर से मुख्य उम्मीदवार अश्विनी कुमार चौबे (बीजेपी), जगदानंद सिंह (RJD) हैं। मोदी सरकार में राज्य मंत्री होने के बावजूद चौबे पूरी तरह से मोदी की छवि पर निर्भर हैं। स्थानीय लोग उनके प्रदर्शन से नाखुश हैं, लेकिन बालाकोट हवाई हमले के बाद वह अपनी नैया पार लगने की उम्मीद लगाए बैठे हैं। ब्राह्मण बहुल सीट पर राजपूत वोट एक महत्वपूर्ण फैक्टर है। अगर जगदानंद सिंह को राजपूतों का 30 प्रतिशत वोट भी मिल जाता है तो चौबे मुश्किल में पड़ जाएंगे। यादव और मुस्लिम सिंह के पीछे खड़े हैं। 

पाटलिपुत्र (बिहार) 
पाटलिपुत्र से मुख्य उम्मीदवार: रामकृपाल यादव (बीजेपी), मीसा भारती (आरजेडी) 
आरजेडी प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के पूर्व सहयोगी राम कृपाल यादव मोदी की अपील और विकास कार्यों पर निर्भर हैं। लालू प्रसाद की बेटी अपने पिता के लिए लोगों की सहानुभूति पाने की उम्मीद कर रही हैं। 

गुरदासपुर (पंजाब) 
पंजाब के गुरदासपुर से मुख्य उम्मीदवार: सनी देओल जो कि बीजेपी की तरफ से और सुनील जाखड़ जो कि कांग्रेस की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं। बीजेपी ने राष्ट्रीय सुरक्षा को अपना चुनावी मुद्दा बनाया है और सनी देओल भी देशभक्ति फिल्मों के लिए मशहूर हैं। वह अपने फिल्मों के दृश्यों को रीक्रिएट कर और अपने मशहूर संवादों ‘ढाई किलो का हाथ’ और ‘हिंदुस्तान जिंदाबाद है, जिंदाबाद रहेगा’ से लोगों को लुभाने की कोशिश की है। 

अमृतसर (पंजाब) 
अमृतसर पंजाब से अगले मुख्य उम्मीदवार: हरदीप सिंह पुरी जो कि BJP के उम्मीदवार हैं और गुरजीत सिंह औजला जो कि कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह जिन्होंने 2014 में बीजेपी के अरुण जेटली को हराया था, वह इस बार पुरी को हराने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं, पुरी 1984 सिख-विरोधी दंगे के संबंध में सैम पित्रोदा के ‘हुआ तो हुआ’ बयान पर कांग्रेस पर जमकर निशाना साध रहे हैं। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Voting for the final phase today

More News From national

IPL 2019 News Update
free stats