नई दिल्लीः उन्‍नाव रेप पीड़‍िता मामले में दिल्‍ली हाईकोर्ट की अधिसूचना और अस्‍थाई कोर्ट लगाने की अनुमति के बाद अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान यानी एम्स के ट्रामा सेंटर में फास्‍ट ट्रैक कोर्ट लगाया गया है। बुधवार से उन्नाव रेप पीड़‍िता की गवाही कराई जानी है। सुनवाई के लिए ट्रायल कोर्ट के जज पहुंच गए हैं। बता दें कि एक्सीडेंट के बाद उन्नाव रेप मामले में पीड़‍िता का एम्‍स में ही इलाज चल रहा है। दो दिन पहले दिल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश के बाद एम्‍स में अस्‍थाई अदालत लगाने की प्रक्रिया चल रही है। एम्स के जय प्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर की पहली मंजिल पर सेमिनार हॉल में यह कोर्ट बनाया जाएगा। जहां 11 सितंबर को सुबह 11 बजे से पीड़िता के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

उन्नाव रेप पीड़िता के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया बंद कमरे में होगी। इस दौरान किसी भी प्रकार की ऑडियो-वीडियो रिकॉर्डिंग की मनाही होगी। इसके लिए कोर्ट ने एम्स प्रशासन को निर्देश दिए हैं। वहीं सुनवाई के दौरान सेमिनार हॉल में लगे सीसीटीवी कैमरे भी बंद रहेंगे। इस दौरान पीड़ि‍ता और आरोपी का आमना-सामना न हो, इसकी भी व्‍यवस्‍था की गई है। बता दें कि उन्नाव जिले के बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़‍िता की कार को बीते 28 जुलाई को रायबरेली से उन्नाव लौटते वक्त सामने से आ रहे ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी थी। इस हादसे में पीड़ित लड़की की दो महिला संबंधियों की मौके पर ही मौत हो गई थी। जबकि पीड़िता और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पीड़िता दिल्ली के एम्स अस्पताल में दाखिल है।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Unnao rape case: Temporary court in AIIMS, judge of trial court reached to take victim's statement

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats