image

लखनऊः उत्तर प्रदेश में पिछले दो दिन से मानसून के फिर से सक्रिय होने और तेज बरसात के कारण गंगा नदी प्रयागराज से बलिया तक खतरे के निशान को पार कर गई है जबकि पिछले 24 घंटों में पूर्वी उत्तर प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई। जल आयोग की सूचना के अनुसार मघ्यप्रदेश और राजस्थान में लगातार बरसात और बांघों से पानी छोडे जाने से प्रयागराज में गंगा और यमुना नदी के किनारे बसे लोगों की परेशानी और बढा दी है। 

जिला प्रशासन ने रात में नावों के संचालन पर रोक लगा दी है। कल मंगलवार को राजस्थान के घौलपुर से चंबल में 21 लाख क्यूसेक और कोटा से पांच लाख क्यूसेक पानी छोडा गया। बाढ का पानी निचले इलाकों में रहने वालों के घरों में घुस गया है। जिला प्रशान ने सभी को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। आपदा प्रबन्धन की टीमें लगातार लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेज रही हैं। बलिया के बैरिया इलाके में रिंग बांध टूटने से हजारों लोग सडकों पर रहने को मजबूर हैं। गंगा के लगातार बढने से गाजीपुर में एक सौ से ज्यादा गांवों के लोग संकट में फंसे हैं। मिर्जापुर में भी करीब 500 गांव बाढ की चपेट में हैं। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Ganga water above danger mark from Prayagraj to Ballia

More News From national

Next Stories
image

free stats