image

वाराणसीः छात्राओं के खिलाफ शर्मसार और भद्दी टिप्पणियां करने के दोषी पाए जाने के बाद निलंबित किए गए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के प्रोफेसर एस. के. चौबे की बहाली के खिलाफ छात्राओं के प्रदर्शन के बाद उन्हें लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया है। बीएचयू के एक प्रवक्ता ने कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राकेश भटनागर की तरफ से रविवार रात जारी यह आदेश यौन उत्पीड़न पर लगाम लगाने के लिए है। विश्वविद्यालय ने सभी विभागों को फिर से दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं।
 
विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने चौबे के मामले को कार्यकारी परिषद को वापस भेज दिया है, ताकि उनका निलंबन जो वापस लिया गया है, उस पर फिर से विचार किया जा सके। हालांकि, कुलपति के आदेश के बावजूद परिसर में विरोध प्रदर्शन जारी है।यह मामला तब सामने आया, जब कुछ छात्राओं ने शिकायत की कि अक्टूबर 2018 में पुणे दौरे के दौरान चौबे ने कुछ लड़कियों पर आपत्तिजनक और भद्दी टिप्पणियां की थीं। छात्राओं ने दौरे से लौटने के बाद प्रोफेसर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

शिकायत मिलने के बाद, कुलपति ने चौबे को निलंबित कर दिया और मामला आंतरिक शिकायत समिति के पास भेज दिया।इस जून में, कार्यकारी परिषद ने चौबे को बहाल करने और उनके निलंबन को रद्द करने का फैसला किया। फैसले के बाद, प्रोफेसर ने अगस्त में कक्षाएं लेनी शुरू कर दी।हालांकि, इस निर्णय का उन छात्राओं ने विरोध किया, जिनका मानना है कि चौबे को छेड़खानी के लिए दंडित किए जाने की जरूरत है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: BHU proffessor goes to long leave for commenting on Girls

More News From national

Next Stories
image

free stats