image

देश भर में गोरक्षा ने नाम पर भीड़ द्वारा की गई हत्या के कई मामले सामने आए हैं। भीड़तंत्र इतना मजबूत हो गया है कि किसी की जान लेने से भी नहीं डरते। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अलवर में गोरक्षकों की पिटाई से मरने वाले पहलू खान के खिलाफ चार्जशीट का ठीकरा पिछली भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर फोड़ा है। साथ ही आश्वासन दिया कि अगर मामले की जांच में गड़बड़ी पाई जाती है, तो इसकी दोबारा से जांच होगी। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का यह बयान उस समय सामने आया है, जब पहलू खान के खिलाफ चार्जशीट दायर करने को लेकर सूबे की कांग्रेस सरकार घिरी हुई है।

इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पहलू खान केस की जांच पिछली बीजेपी सरकार के दौरान की गई थी। इस मामले की चार्जशीट भी बीजेपी सरकार के दौरान पेश की गई थी। अगर इस जांच में किसी भी तरह की खामी पाई जाती है, तो इस मामले की जांच फिर से होगी। आपको बता दें कि राजस्थान पुलिस ने कथित गोरक्षकों द्वारा मारे गए पहलू खान के खिलाफ चार्जशीट दायर किया है और गोतस्करी का आरोप लगाया है। 

पुलिस ने पहलू खान को राजस्थान बोवाइन एनिमल (प्रोहिबिशन ऑफ स्लॉटर एंड रेगुलेशन ऑफ टेम्परेरी माइग्रेशन एक्सपोर्ट) एक्ट-1995 की धारा 5, 8 और 9 के तहत आरोपी बनाया है। मृतक पहलू खान को पुलिस ने ऐसे वक्त में आरोपी बनाया है, जब राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है। पहलू खान की करीब दो साल पहले यानी 2017 में राजस्थान के अलवर में कथित गोरक्षकों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। उस समय राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी। वहीं, हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम चीफ असद्दुदीन ओवैसी ने पहलू खान के खिलाफ दायर चार्जशीट को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Problems in the investigation of Pehlu Khan case, will be re-examined again: Ashok Gehlot

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats