image

धर्मशाला: पर्यटन नगरी धर्मशाला के रमणीक पर्यटक स्थल त्रियूंड ट्रैकिंग जाने वालों का पंजीकरण सुनिश्चित करने की कवायद वन विभाग ने तेज कर दी है। त्रियूंड जाने वाले पर्यटकों व ट्रैकर्स की आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए तैयार साफ्टवेयर का ट्रायल विभाग द्वारा करवाया गया है, जोकि सफल रहा है। अब विभाग को इंतजार है कि कब गलू में निर्माणाधीन चैक पोस्ट भवन बनकर तैयार होता है, उसके बाद विभाग द्वारा आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। वन विभाग ने त्रियूंड के सौंदर्यीकरण सहित वहां पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने का बीड़ा उठाया है।

 

हालांकि वर्तमान में अधिक सर्दी के चलते विभाग ने रात के समय त्रियूंड जाने पर रोक लगा दी है, जबकि दिन के समय पर्यटक ट्रैकिंग के लिए त्रियूंड जा सकते हैं। पूर्व में बिना किसी सूचना के पर्यटक त्रियूंड की ओर रुख करते थे। अधिक संख्या में पर्यटकों के वहां पहुंचने से जहां गंदगी फैल रही थी, वहीं त्रियूंड की सुंदरता भी प्रभावित होने की संभावना बढ़ गई थी। इसको मद्देनजर रखते हुए वन विभाग ने त्रियूंड के सौंदर्यीकरण के लिए विस्तृत मास्टर प्लान तैयार किया है। आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन साफ्टवेयर भी उसी मास्टर प्लान का हिस्सा है।

 

रजिस्ट्रेशन शुरू होने से विभाग द्वारा निर्धारित संख्या में ही पर्यटकों को त्रियूंड जाने की स्वीकृति दी जाएगी। वहीं कब, कितने पर्यटकों ने त्रियूंड का रुख किया, इसका रिकार्ड भी विभाग के पास उपलब्ध रहेगा। गौरतलब है कि त्रियूंड में कई बार पर्यटक रास्ता भटक जाते हैं। यही नहीं कई बार तो पर्यटक गलत रास्ते पर जाने के चलते गिरने की वजह से घायल भी हो चुके हैं। ऐसे में वन विभाग द्वारा तैयार करवाए साफ्टवेयर की मदद से पर्यटकों का पूरा रिकार्ड विभाग के पास उपलब्ध रहेगा।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: triyund will count trackers

More News From himachal

Next Stories
image

IPL 2019 News Update
free stats