image

पेरूः अाज हम अापकाे बच्चाें की बल‍ि काे लेकर सामने अाई खौफनाक हकीकत के बारे में बताने जा रहे हैं। यहां की जब अाप तस्वीरें देखेंगे ताे अापकी रुह कांप जाएंगी। दरअसल, पुरातत्वविदों ने पेरू में 550 साल पहले सबसे बड़े नरसंहार के सबूत सामने आए हैं। यह जगह राजधानी लिमा से 500 किलोमीटर दूर त्रुजिलो शहर के करीब दूर हैं। इस जगह का नाम लास लामास है। नेशनल ज्योग्राफिक सोसाइटी के शोधकर्ताओं को यहां 140 बच्चों के अवशेष मिले हैं।  

सबसे बड़ा नरसंहार: दिल निकालकर दी थी 140 बच्‍चों की बलि

पेरु नेशनल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर गेब्रियल प्रिटो के अनुसार बलि की जगह को  चिमु सभ्यता में ही बनाया गया था। दावा किया जा रहा हैं, कि अल नीनो की वजह से पेरू के पास स्थित समुद्र में तूफान आया था, जिसकी वजह से त्रुजिलो में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई थी। इसी से बचाव के लिए लोगों ने भगवान को अपने बच्चों की भेंट चढ़ाई थी।


उन्हाेंने बताया कि बलि स्थल से मिले सभी बच्चों के अवशेष समुद्र की ओर सिर किए हुए थे, यानी उन्हें इस तरह से ही दफनाया गया था। इस जगह को हुआनचाकिटो लास लमास भी कहा जाता है।

इस अंधविश्‍वास की वजह से यहां 200 से ज्‍यादा छोटे बच्‍चों की बल‍ि दे दी गई थी। इस स्थल पर पुरातत्वेत्ताओं ने 140 से अधिक बच्चों के अवशेषों का पता लगाया है। इन बच्‍चों की उम्र 5 से 14 साल के बीच है। 2011 में इसी स्थान पर 42 बच्चों और 70 लामा के अवशेषों का पता लगाया था।

सबसे बड़ा नरसंहार: दिल निकालकर दी थी 140 बच्‍चों की बलि

यहां तक की इन बच्चों की हड्डियों में जख्मों के निशान थे। साथ ही अवशेषों पर मिले कट मार्क्‍स से पता चला है कि उनके दिलों को निकाल लिया गया था। इन अवशेषों को देखकर ऐसा लगता है कि बच्चों के दिल को निकालने के लिए उनके पसलियों और पेट की अन्य हड्डियों को काटा गया था। उनके अवशेषों पर गाढ़े लाल रंग की परत पाई गई, जिससे ऐसे संकेत मिलते हैं कि उन्हें अनुष्ठान के बाद मारा गया था।

 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: the largest massacre in history in peru remains of 140 children found

More News From international

Next Stories
image

free stats