image

धर्मशाला: सरकारी अस्पतालों में उपचार के लिए आने वाले मरीजों व उनके तीमारदारों के प्रति डाक्टर्स का व्यवहार कैसा है और अस्पताल की फीडबैक लेने के लिए अब स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी मरीजों से सीधा संवाद करेंगे। इसके लिए पर्ची काउंटर पर पर्ची बनाते समय ही मरीज का संपर्क नंबर लिया जाएगा, जोकि एंटर होने के साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय के साफ्टवेयर से जुड़ जाएगा। यह सुविधा अपना अस्पताल योजना के तहत उपलब्ध होगी, जिसे जोनल अस्पताल धर्मशाला में शुरू कर दिया है। यही नहीं इस योजना के तहत अस्पतालों में दवाइयों की स्थिति का भी जायजा लिया जा सकेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने निर्देशो पर जोनल अस्पताल में अपना अस्पताल योजना शुरू की गई है।

 

योजना के तहत मरीज के उपचार के कुछ दिनों बाद स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी मरीज द्वारा दर्ज करवाए गए संपर्क नंबर पर बात करेंगे तथा यह पता लगाएंगे कि मरीज अस्पताल में मिल रही सुविधाओं व सेवाओं से संतुष्ट है या नहीं। मरीजों से बातचीत के दौरान मिलने वाली फीडबैक के आधार पर अस्पतालों की ग्रेडिंग की जाएगी। वर्तमान में पर्ची बनाने में केवल मरीज, उनके पिता या पति का नाम और बीमारी पूछी जाती थी, लेकिन अपना अस्पताल योजना के तहत पर्ची बनाते वक्त मरीज का मोबाइल नंबर भी दर्ज किया जा रहा है जिसका डाटा सीधे मंत्रालय में पहुंच रहा है।

 

अस्पताल से प्राप्त होने वाले आंकड़ों में से कुछेक नंबर छांटकर मंत्रालय के अधिकारी सीधे मरीज से बात करें कि क्या वह उनके जोनल अस्पताल में मिल रही सुविधाओं से संतुष्टि हैं या नहीं। मरीजों से मिलने वाली फीडबैक के अनुपात का आंकलन करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय अस्पताल को जरूरी दिशा निर्देश जारी करेगा। जोनल अस्पताल धर्मशाला के सीनियर मेडिकल सुपरिटैंडैंट डा. दिनेश महाजन ने बताया कि अस्पताल में अपना अस्पताल योजना शुरू कर दी गई है, जिसके तहत मरीजों का मोबाइल नंबर भी दर्ज किया जा रहा है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: the health ministry will know the behavior of doctors

More News From himachal

Next Stories
image

IPL 2019 News Update
free stats