image

जालंधर (रोहित सिद्धू) : मेयर जगदीश राज राजा के लिए वित्त व ठेका कमेटी (एफएंडसीसी) का गठन करना मुश्किल हो रहा है। नगर निगम हाऊस ने 5 मार्च को एफएंडसीसी के गठन के सारे अधिकार मेयर राजा को सौंप दिए थे। लेकिन अब राजा चारों विधायकों में से किसी की भी नाराजगी मोल नहीं लेना चाहते हैं। इसलिए इसका फैसला चंडीगढ़ पर छोड़ा जा रहा है। सूत्र बताते हैं कि मेयर खुद एफएंडसीसी में किन्हीं दो पार्षदों को शामिल करने की बजाए फैसला चंडीगढ़ हाईकमान पर छोड़ रहे हैं। इस कमेटी के अलावा पिछले निगम हाऊस में दो अलग-अलग प्रस्तावों पर चर्चा के लिए दो कमेटियों का गठन करना था, वह भी मेयर नहीं कर पाए हैं। जिससे अभी तक वरियाणा डंप में 10 एकड़ जमीन खरीदने और नई 600 ई-रिक्शा खरीदने के प्रस्ताव आगे नहीं बढ़ पाए हैं।

मेयर जगदीश राज राजा दावा कर रहे हैं कि हर महीने निगम हाऊस की बैठक करवाने की परंपरा को चालू करवाएंगे लेकिन नगर निगम को चलाने के लिए सबसे अहम वित्त व ठेका कमेटी का अभी तक गठन नहीं किया गया है। उन्होंने 25 फरवरी को पदभार संभाला था और अभी एक अहम मीटिंग हाऊस की हो भी चुकी है। अगली मीटिंग 20 मार्च को बजट पर होने जा रही है। ऐसे में नगर निगम की एफएंडसीसी का गठन न होना सवाल पैदा कर रहा है। हालांकि पिछले हाऊस मीटिंग में सभी पार्षदों ने उन्हें यह अधिकार दे दिया था कि वह एफएंडसीसी में डाले जाने वाले दोनों पार्षदों का चुनाव कर सकते हैं। इसके बावजूद वह खुद चयन करने से बच रहे हैं।

मेयर विधायकों की नाराजगी नहीं मोल लेना चाहते
चर्चा यह है कि वह विधायक बेरी के साथ बहुत अटैच हैं, लेकिन वह उनके दोनों पार्षदों को इस कमेटी में शामिल नहीं करवा सकते। ऐसा करते हैं कि पहले से ही नाराज चल रहे नॉर्थ व कैंट विधानसभा हलके के पार्षद व विधायक उनके खिलाफ मोर्चा खोल सकते हैं। क्योंकि इस अहम कमेटी में सभी विधायक अपने हलके के पार्षदों को मैंबर बनवाने के लिए जोर लगा रहे हैं। मेयर इन विधायकों की नाराजगी मोल लेकर चलना नहीं चाहते हैं। जबकि अभी तक वह चारों विधायकों की राय के साथ ही निगम के सभी काम करते आ रहे हैं। जब इस मामले में पार्षद मनदीप जस्सल ने मेयर के साथ चर्चा की तो उन्होंने कहा कि अब एफएंडसीसी में पार्षदों को शामिल करने और कमेटी का गठन करने का काम चंडीगढ़ से हाईकमान ही करेगी।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: the councilors gave the authority to the mayor the formation of f and cc on rajas high command

More News From punjab

Next Stories

image
free stats