image

बीकानेरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि धर्मस्थल उपासना के नहीं, बल्कि राष्ट्रीय एकात्मकता के भी स्थल हैं और प्रत्येक नागरिक के लिए धर्मस्थल खुले रहने चाहिए, यह आज के समय की जरुरत है। योगी शनिवार को यहां श्रीनवलेश्वर मठ सिद्धपीठ में योगी श्रीमत्स्येंद्रनाथ, योगी गुरु गोरक्षनाथ व भगवान आदित्यदेव की प्रतिमाओं के अनावरण के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे।

दिल्ली के प्रदूषण का सेहत पर प्रभाव दिन में 15-20 सिगरेट पीने के बराबर

तत्व ज्ञान को बढ़ावा दिए जाने पर जोर देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नाथ संप्रदाय परंपरा ने भी समाज को नई दिशा देने में बड़ी भूमिका निभाई है। उन्होंने महापुरुषों के जीवन को उदाहरणीय बताया व कहा कि भगवान श्रीराम का जीवन आदर्शमय रहा है। जनसमूह द्वारा जयश्री रामे के उद्घोष पर उन्होंने कहा कि वे जानते हैं कि राम के नाम पर आपकी क्या चाहत है, आपकी भावनाएं साकार रुप लें, इसके लिए देशभर में प्रत्येक घर में छह नवंबर को एक दीपक राम नाम का जलना चाहिए, बहुत जल्दी ही काम भी होगा। इससे पहले योगी बालकनाथ व केंद्रीय मंत्री अजरुन मेघवाल ने भी विचार रखे।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Religious place: Yogi, not only for worship but also for national integration

More News From national

Next Stories
image

free stats