image

रोहतक: हरियाणा कांग्रेस की गुटबाजी से कांग्रेस उच्चकमान काफी परेशान है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा. अशोक तंवर के गुट हरियाणा की राजनीति में आमने-सामने हैं। दोनों गुट पिछले करीब साढ़े तीन सालों से अलग-अलग रास्ते पर चल रहे हैं जिससे प्रदेश की राजनीति में कांग्रेस की गुटबाजी का संदेश जा रहा है। कांग्रेस उच्चकमान को भी अब भय सताने लगा है कि अगर दोनों नेताओं की गुटबाजी पर लगाम नहीं लगाई गई तो आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक बार फिर खमियाजा भुगतना पड़ सकता है 

लोकसभा व हरियाणा विधानसभा के  चुनाव अगले साल होने वाले हैं। अब कांग्रेस उच्चकमान की निगाहें हरियाणा पर लगी हुई हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए शनिवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व मुख्यमंत्री भपेंद्र सिंह हुड्डा से दिल्ली में एक होटल में करीब आधा घंटा तक बातचीत की और प्रदेश में कांग्रेस को मजबूत करने के निर्देश दिए। 

भूपेंद्र सिंह हुड्डा गुट के विधायक पिछले काफी समय से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा. अशोक तंवर को हटाकर उनके स्थान पर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कांग्रेस की बागडोर संभावनाएं की मांग कर रहे हैं। उनके गुट के विधायक कांग्रेस के राष्ट्रीयध्यक्ष राहुल गांधी व भूपेंद्र हुड्डा की मुलाकात के बाद प्रदेश कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे में बदलाव की बात को हवा दे रहे हैं।

उनका तो यहां तक भी कहना है कि 15 मई को कर्नाटक विधानसभा के चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष की बागडोर भूपेंद्र सिंह हुड्डा या उनके किसी समर्थक नेता को सौंपी जा सकती है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: rahul gandhi will now live on haryana after karnataka

Next Stories
image

free stats