image

नैनीतालः कांग्रेस के सदस्य एवं पेशे से अधिवक्ता वरुण भाकुनी ने भारत के निर्वाचन आयोग को निष्पक्ष चुनाव का हवाला देते हुए उत्तराखंड के सरकारी कार्यालयों से प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री की तस्वीरों को हटाने की मांग की है।लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में चुनाव जीतने को लेकर होड़ सी लग गयी है। दोनों दल चुनावी दंगल में एक दूसरे को मात देने में कोई भी कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। कांग्रेस पार्टी के सदस्य भी इसमें पीछे नहीं हैं। 

Read More  लोकसभा चुनाव 2019ः कांग्रेस को तगड़ा झटका, ये नेता भाजपा में शामिल

कांग्रेस नेता भूपाल सिंह भाकुनी के पुत्र वरुण भाकुनी की ओर से मुख्य निर्वाचन आयुक्त को लिखे गये पत्र में कहा गया है कि उत्तराखंड सरकार की ओर से शासनादेश जारी कर सभी सरकारी कार्यालयों में महामहिम राष्ट्रपति, राज्यपाल एवं प्रधानमंत्री के अलावा मुख्यमंत्री की तस्वीर लगाने के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री विशेष राजनीतिक दल का प्रतिनिधित्व करते हैं और वे चुनाव प्रचार में जुटे हैं इसलिये इससे निष्पक्ष चुनाव की संभावना खत्म हो जाती है। 

Read More  लोकसभा चुनाव में सोशल मीडिया से हो सकती है मतों की हेराफेरी

उन्होंने इसे आचार संहिता का उल्लंघन माना है। साथ ही आयोग से मांग की गयी है कि सभी सरकारी कार्यालयों एवं सार्वजनिक स्थानों से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की तस्वीरों को हटाने के लिये प्रदेश सरकार को निर्देश जारी करें। पत्र की एक प्रति प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भी भेजी गयी है।   
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Prime minister and chief ministers photos remove from government offices

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats