image

लुधियाना: देश प्रगति की तरफ जा रहा है, लेकिन कई चुनौतियां भी सामने आ रही हैं। भारत में विभिन्न भाषा, विभिन्न जातियां और धर्म के लोग हैं, इन सभी को चुनौतियों से निपटने के लिए एकजुट होना होगा ताकि देश में पैदा हो रही समस्याओं से आसानी से निपटा जा सके। हमें एकता दिखाते हुए मिलकर कठिनाइयों का सामना करना होगा।

ये भी पढ़े : Google के CEO सुंदर पिचाई के घर नहीं था फ्रिज, बचपन में सोते थे ऐसे इंटरव्यू में बताई उन दिनों की कहानी

यह बातें भारतीय फौज के प्रमुख जनरल विपन रावत ने सतपाल मित्तल स्कूल में आयोजित नेहरू सिद्धांत केंद्र की ओर से सतपाल मित्तल नैशनल आवार्ड और छात्रवृत्ति वितरण समारोह के दौरान कहीं।  जनरल रावत ने नौजवानों को भारतीय फौज का अंग बनकर देश की सेवा करने का आह्वान किया।

ये भी पढ़े : जानिए, सांपों से जुड़े कुछ मजेदार और हैरान करने वाले रोचक तथ्य

उन्होंने युवाओं से कहा कि उनके लिए भारतीय फौज के दरवाजे हमेशा खुले हैं। देश को विश्व के नंबर एक पर लाने के लिए सबको मिलकर प्रयास करने होंगे। जनरल रावत ने पश्चिमी सभ्यता के बढ़ रहे चलन पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने नौजवानों को कहा कि वह अपनी काबलियत को पहचानें और उसके मुताबिक ही अपना रास्ता तय करें, जिससे जीवन में सफलता मिले।  

ये भी पढ़े : इन घरेलू जड़ी बूटियों से करें स्वास्थ्य और सौंदर्य का इलाज

अपने बचपन की यादों से युवाओं को किया प्रेरित
जनरल रावत ने मंच से विद्यार्थियों और आज की युवा पीढ़ी को असफलता से निराश न होने के लिए प्रेरित किया और अपने स्कूल में पढ़ाई के दौरान अध्यापक द्वारा सुनाई चंद पंक्तियां सुनाई। ‘असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो तुम, कहां खामियां रह गईं इस पर विचार करो तुम, मेहनत और लगन के साथ आगे बढ़ते चलो तुम, सफलता अवश्य प्राप्त होगी, एक नई सफलता के साथ, परचम लहराते चलो तुम।’ उन्होंने कहा कि जीवन का लक्ष्य तय होना चाहिए। लगातार मेहनत करने के बाद भी कई बार सफलता नहीं मिलती। इससे घबराना नहीं चाहिए, बल्कि मेहनत करते रहना चाहिए। एक न एक दिन सफलता जरूर मिलेगी।   

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: One of the youngest to deal with the challenges facing the country: Gen Bipan Rawat

More News From punjab

Next Stories
image

free stats