image

बठिंडा  : पंजाब के बठिंडा में पिता की मौत के बाद दो सगी बहनें मानसिक तौर पर परेशान रहने लगीं। बेटियों के साथ झगड़ा बढ़ने पर मां बड़ी बेटी के ससुराल जाकर रहने लगी। दोनों बहनों की हालत ऐसी हो गई कि उन्होंने अपने आप को घर में ही कैद कर लिया। किसी से बातचीत करना भी बंद कर दिया। मामले की शिकायत मिलने पर बठिंडा के जिला व सत्र न्यायाधीश दोनों बहनों के घर पहुंचे। उन्होंने उनकी मानसिक हालत को देखते हुए दोनों बहनों को सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया।


गुरतेज सिंह ने दी मामले की शिकायत
सीजेएम मनदीप मित्तल ने बताया कि जुझार सिंह नगर निवासी एडवोकेट जीवनजोत सेठी के पिता रिटायर्ड बैंक मैनेजर गुरतेज सिंह ने उनको शिकायत दी कि उनके पड़ोस में दो सगी बहनें मनदीप कौर व हरप्रीत कौर रहती हैं। दोनों ने अपने पिता की मौत के बाद खुद को घर में कैद कर लिया है। उनके लिए लोग घर के गेट पर रोटी रख जाते हैं। बिल अदा न होने के कारण बिजली व सीवरेज के कनेक्शन काट दिए गए हैं। मानसिक स्थिति ठीक न होने के कारण दोनों बहनें कमरों में ही पेशाब और शौच करने लगीं।

गठित की गई विशेष टीम
जिला व सत्र न्यायाधीश सह चेयरमैन जिला कानूनी सेवाएं परमजीत सिंह की देख रेख में एक टीम गठित की गई। इसमें सदस्य सचिव जिला कानूनी सेवाएं कम सीजेएम मनदीप मित्तल, डॉ. अरुण बंसल, डॉ. प्रगति कालड़ा, एसपी एच सुरिंदरपाल सिंह को शामिल किया गया।

टीम को घर में देखकर हो गईं हिंसक
जज परमजीत सिंह की अगुवाई में टीम के सदस्य व जिला सामाजिक सुरक्षा अधिकारी नवीन गढ़वाल पहुंचे तो देखा कि दोनों बहनें नारकीय जीवन जी रही हैं। उनकी मानसिक हालत भी ठीक नहीं है। छोटी बहन इतने लोगों को घर में आते देख घबरा गई और हिंसक हो गई। उसने टीम के सदस्यों पर बर्तन फेंकने शुरू कर दिए। बाद में टीम ने उन्हें समझाया कि वे उनका ईलाज कराने के लिए आए हैं। उनको पहले नहलाया गया, फिर खाना खिला कर उनको अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: on the death of father two sisters imprisoned themselves in the house the people around them used to keep bread on the gate

More News From punjab

Next Stories
image

free stats