image

अमृतसर: न्यू अमृतसर की दर्शन एवेन्यू में रहने वाली शिक्षा विभाग की क्लर्क गगन वर्मा और उनकी 22 साल की बेटी शिवानी की बेरहमी से हत्या और कोठी में आग लगाने की वारदात के बाद इलाके में दहशत का माहौल है और पुलिस विभाग में भी हड़कंप मचा हुआ है। पुलिस वारदात की गुत्थी को सुलझाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इलाके के लोगों को इस हत्याकांड के बारे में काफी कुछ पता होने के बावजूद भी वह पुलिस के सामने अपनी जुबान नहीं खोल रहे। इसके बावजूद भी पुलिस के हाथ कई ऐसे सबूत लगे हैं जिनसे पुलिस इस हत्याकांड को सुलझाने के लिए अलग-अलग पहलुओं पर जांच में जुटी है। सबसे पहले इस मां-बेटी की हत्या के तार एक नेता और सरपंच के साथ जुड़े हैं। इस सरपंच के साथ गगन वर्मा की दोस्ती थी। धीरे-धीरे यह दोस्ती हद से आगे निकल गई और दोनों में अवैध संबंध बन गए। जैसे ही गगन वर्मा की बेटी और बेटा जवान हुए तो गगन वर्मा ने सरपंच से दूरियां बनानी शुरू कर दीं। उनके बच्चों को मां और सरपंच के संबंध पसंद नहीं थे, मगर सरपंच हरकतों से बाज नहीं आया। वह गगन वर्मा पर दबाव बनाने लगा और उसे पुराने संबंधों को सार्वजनिक करने की धमिकयां देने लगा। गगन वर्मा ने इस बात की जब परवाह नहीं की तो सरपंच उसके बेटे और बेटी के नाम पर धमकाने लगा। इतना ही नहीं उसने अपनी पहुंच का फायदा उठाते हुए कुछ पुलिस वालों के साथ मिलकर गजेंद्र वर्मा के परिवार को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। अमृतसर देहाती के कुछ स्थानों और चौकियों में गगन वर्मा के बेटे रिदम के खिलाफ झूठी शिकायतें भी कीं। इन सभी बातों का खुलासा गगन वर्मा द्वारा अमृतसर दिहाती को दी गई शिकायत से हुआ है। पुलिस द्वारा इस पूरे मामले को गंभीरता से लिया गया है। मां-बेटी की हत्या के बाद सबसे पहले शक की सूई सरपंच पर ही गई। पुलिस ने मानावाला में छापामारी की तो पता चला कि 5 दिन पहले ही यह सरपंच विदेश चला गया है। पुलिस को शक है कि सरपंच जान-बूझकर विदेश तो नहीं गया। उसने इस हत्याकांड की योजना तो नहीं बनाई थी। उसने सुपारी देकर दोहरा हत्याकांड करवाया हो। उस पर शक न हो, इसलिए वह विदेश चला गया। इन सभी पहलुओं पर पुलिस द्वारा जांच की जा रही है।

 

हत्यारा घर का ही भेदी है
पुलिस के पास इस दोहरे हत्याकांड के ऐसे कई सबूत हाथ लगे हैं जिससे यह पता चलता है कि हत्यारा घर का ही कोई भेदी है। घर में कुत्ता रखा गया है। यह कुत्ता किसी भी अनजान व्यक्ति को घर के पास भी फटकने नहीं देता था, मगर जब दोहरा हत्याकांड हुआ तो कुत्ता एक बार भी नहीं भौंका। इससे यह साबित होता है कि जो भी व्यक्ति घर में दाखिल हुआ वह पहले भी घर में आता-जाता था। अगर कोई बाहरी व्यक्ति या लुटेरा गिरोह दाखिल होता तो मां-बेटी शोर मचा देतीं, मगर किसी ने भी शोर नहीं मचाया।

3 दिन से परेशान थी गगन वर्मा
इलाके के लोगों ने पुलिस को बताया है कि 3 साल पहले क्लर्क गगन वर्मा अपनी बेटी और बेटे के साथ उनके इलाके में रहने के लिए आई थी वह हमेशा खुश रहते थे और बढ़िया ढंग से इलाके वालों के साथ मिलते थे, मगर पिछले 3 दिनों से गगन वर्मा कुछ परेशान नजर आ रही थी।

पुलिस कर रही है अलग-अलग पहलुओं पर जांच 
पुलिस द्वारा हर बार की तरह सबसे पहले साइबर क्राइम सैल को जांच में शामिल किया गया है। साइबर क्राइम सैल द्वारा मोबाइल फोन की लोकेशन और कॉल डिटेल के आधार पर आरोपियों का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा पुलिस द्वारा मानांवाला जंडियाला और कई और इलाकों में खुफिया तौर पर भी जांच की जा रही है।

कहीं नहीं लगे सी.सी.टी.वी. कैमरे
दर्शन एवेन्यू में कई नेता, पुलिस अधिकारी, उद्योगपति और व्यापारियों की कोठियां हैं। मां-बेटी के दोहरे हत्याकांड के बाद पुलिस द्वारा आरोपियों का सुराग लगाने के लिए दर्शन एवेन्यू में सी.सी.टी.वी. कैमरों की तलाश शुरू की गई, मगर पुलिस हैरान रह गई। करोड़ों रु पए की कोठियों में कहीं भी सी.सी.टी.वी. कैमरे नहीं लगे हुए हैं।

किसको मिलने के लिए रोजाना कोठी के पीछे जाती थी गगन वर्मा
पुलिस को पता चला है कि अक्सर गगन वर्मा पिछले कुछ दिनों से किसी को मिलने के लिए कोठी से बाहर आती थी। कोठी के पीछे एक व्यक्ति आता था और वह उसे वहीं पर मिलकर घर लौट आती थी। वोे व्यक्ति कौन है, पुलिस के लिए पहेली बना हुआ है।

दो बार हुआ है गगन वर्मा का तलाक
पुलिस को जांच के दौरान पता चला है कि शिक्षा विभाग में तैनात क्लर्क गगन वर्मा की पहली शादी अमृतसर में और दूसरी शादी पठानकोट में हुई थी। दोनों ही बार उसका तलाक हो गया। लड़का और लड़की पहली शादी से है। पुलिस द्वारा उसके पहले दोनों पतियों को भी जांच में शामिल किया जा रहा है।

किसी के साथ नहीं थी कोई दुश्मनी
जंडियाला में रहने वाली गगन वर्मा के भाई संजीव कुमार और बॉबी गीता को जब हत्याकांड का पता चला तो वह रोते हुए मौके पर पहुंचे। उन्होंने पुलिस को बताया कि उनकी बहन की किसी के साथ कोई दुश्मनी नहीं थी, न ही उनकी बहन ने किसी व्यक्ति द्वारा परेशान किए जाने के बारे में उन्हें बताया।

सब्जी कटी थी, गेट खुला था और स्कूटी बाहर खड़ी थी
गगन वर्मा की सफेद रंग की स्कूटी घर के बाहर खड़ी थी। पूरी रात बाहर ही रही, जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि हत्यारे शाम को ही घर में दाखिल हो गए। रसोई में सब्जी भी कटी हुई रह गई। गगन वर्मा को सब्जी बनाने का भी मौका नहीं मिला। रात को हत्या और आग लगाने की वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए और दरवाजा भी खुला रहा। जब दमकल विभाग की गाड़ियां आग बुझाने पहुंचीं तो दरवाजा खुला मिला।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: old love relationship became the cause of double murder

More News From amritsar

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats