image

अमृतसर: सरकारी मैडीकल कालेज में अवैध तौर पर चल रही तमाम कैंटीनों यानी मैसों का वर्चस्व अब शीघ्र ही समाप्त होने वाला है। मैडीकल कालेज के प्रिंसीपल डाक्टर तेजबीर सिंह ने तमाम होस्टलों में रहने वाले विद्यार्थियों को निर्देश जारी कर दिया कि वह अपने अपने होस्टल में कमेटियों का गठन करें और इन मैसों में बनने वाले खाने की गुणवत्ता कैसी होगी। इसका मीनू क्या होगा? किस दिन उन्हें क्या खाने को मिंलेगा? इन सारी चीजों को खुद ही तय कर लें। जानकारी के मुताबिक सोमवार तक यह रैजीडैंट अथवा विद्यार्थी प्रिंसीपल को अपने द्वारा बनाई गई कमेटी की रिपोर्ट सौंप देंगे। खास बात तो यह है कि सभी होस्टलों में चल रही मैसों की अलाटमैंट किसने की, किसी को खबर नहीं है। कोई इसका किराया भी नहीं दे रहा है, उल्टा कालेज का बिजली पानी व अन्य सामान इन मैस मालिकों की ओर से इस्तेमाल किया जा रहा है।

किसके आदेशों से खुली थी मैसें, पता नहीं
 डाक्टर तेजवीर सिंह में दैनिक सवेरा के साथ हुई बातचीत के दौरान बताया कि लंबे समय से सभी होस्टलों में मैसें चलाई जा रही हैं, लेकिन इन मैसों के मालिकों की ओर से किराए के तौर पर कोई भी पैसा सरकारी मैडीकल कालेज को जमा नहीं करवाया जाता। अब यह कैंटीन किसने प्राइवेट आदमी को अलाट की और किस आधार पर यह इन कंटीनों को चला रहे हैं और सरकारी मैडीकल कालेज की बिजली, पानी व अन्य सामान का इस्तेमाल कर रहे हैं, इसकी जानकारी उन्हें नहीं है। उन्होंने कहा कि सोमवार तक सभी रैजीडैंट डाक्टर अथवा विद्यार्थी अपने अपने होस्टल में चलने वाली मैस को लेकर बनाई गई कमेटी की रिपोर्ट उन्हें सौंप देंगे। तब बाहरी व्यक्तियों को मैसों में आने से रोक दिया जाएगा, क्योंकि यह सरकारी संपित्त है। यदि यहां पर पढ़ने वाले विद्यार्थियों को खाना ही अच्छा नहीं मिलेगा तो फिर यह बहुत गलत संदेश बाहर जाता है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: off will be illegal mess 8 hotels medical college

More News From amritsar

Next Stories
image

free stats