image

अमृतसर : पूर्व मंत्री और अकाली दल के महासचिव बिक्रम सिंह मजीठिया ने मांङो की जरनैली पर फिर कब्जा पंचायती चुनावों में अकाली उम्मीदवार जिताकर कर लिया है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए मजीठिया ने दावा किया कि कांग्रेस ने पंचायती चुनाव में व्यवस्था तहस-नहस करके और लोकतंत्र का गला घोंटकर सूबे की जनता को 2019 के आगाज का तोहफा दिया है। यह पहली बार हुआ है कि चुनाव दौरान हाईकोर्ट को दखलंदाजी करनी पड़ी व लोकतंत्र बचाने के लिए संविधान के आर्टीकल 226 का प्रयोग करना पड़ा है।

कंगना ने खुद कर दिया खुलासा, यह है कंगना रनौत का पहला प्यार

मजीठिया ने कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी को निशाना बताने हुए कि कहा कि देशभर में पंचायती संस्थाओं को मजबूत करने का शोर मचाने वाले राहुल की हालत हाथी के दांत खाने के और व दिखाने के और वाली है। किसानों द्वारा आत्महत्याओं के कारण पंजाब मॉडल सबसे ज्यादा फेल साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि जहां-जहां निष्पक्ष मतदान हुआ वहां नतीजे अकाली दल के पक्ष में आए हैं। उन्होंने आरेाप लगाया कि पंजाब में 28000 यानी 33 प्रतिशत सरपंची उम्मीदवारों के नामजदगी कागज धक्केशाही से रद्द किए गए। 13 हजार में से 4 हजार गांवों के बगैर मतदान करवाए जब्री सरपंच बना लिए गए। अकाली दल की तरफ से उक्त धक्केशाहियों के विरुद्ध जरूरत अनुसार हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया जाएगा।
देखो खजाना मंत्री की वोट कोई और डाल गया

आखिरी टेस्ट के बाद पुरस्कार वितरण समारोह के लिये गावस्कर को अभी तक नहीं मिला न्यौता

मजीठिया ने सवाल किया कि निष्पक्ष चुनाव के दावों की पोल एक ही कलई खोल दी है कि अपने शासन में कांग्रेस पार्टी के खजाना मंत्री की वोट ही कोई और डाल गया है। मजीठा के गांव मान समेत कई गांवों में वोटर सूचियां ही रातोंरात बदल दी गईं और कई उम्मीदवारों के कागज चूल्हा टैक्स के बहाने रद्द कर दिए गए। कई गांवों में जाली वोटों की पूरी धूम मची रही है। फिरोजपुर में 835 में से 644, गुरदासपुर में 1280 में से 719 और जिला तरनतारन में 560 में से 356 गांवों की पंचायतों को कांग्रेस ने जब्री हथिया लिया है। मजीठा के गांव रक्ख को आरक्षण सूची में डालकर कांग्रेसी उम्मीदवार जिताया गया, जबकि गांव दलित वर्ग से संबंधित था। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- एक लड़ाई से पाकिस्तान सुधर जाएगा यह सोचना ‘‘बड़ी गलती’’ होगी
 

*सज्जन कुमार गांधी परिवार की सच्चाई सामने लाए

मजीठिया ने कहा कि सज्जन कुमार को अपने किए पर पछतावा है तो गांधी परिवार की सच्चई सामने लाए। वह बताए कि 1984 के सिख नरसंहार की योजना कैसे बनी है और किस-किस ने उसे अंजाम दिया। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की देश की तरक्की में की गई अहम प्राप्तियों की प्रशंसा की। इस मौके पर वीर सिंह लोपोके, विरसा सिंह वल्टोहा, भगवंत सिंह सिआलिका, राणा लोपोके गुरप्रताप सिंह टिक्का भी मौजूद थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Majithia said in the election, where there is fair voting in Panchayat elections, in favor of Shaid

More News From amritsar

Next Stories
image

free stats