image

हिंदी सिनेमा में कर्इ दशकाें से जाने-माने अभिनेता अपने शानदार अभिनय आैर स्टाइल से लाखाें लाेगाें के दिलाे पर राज करते आए हैं, आैर आज भी बाॅलीवुड इंडस्ट्री में उन्हें याद किया जाता है। इन्हीं में से एक थे हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता संजीव कुमार। आइए आपकाे बताते हैं इनके जीवन से जुड़े खास किस्साें के बारे में, जिन्हें शायद ही आप नही जानते हाेंगे। संजीव कुमार हिंदी सिनेमा की शानदार फिल्माें 'खिलौना', 'आंधी', 'पति पत्नी और वो' और 'सीता और गीता' 'जानी दुश्मन', 'शोले', में अपने शानदार अभिनय के लिए लोगों को याद रहे हैं। बता दें कि आज उनकी पुण्य तिथी है। बता दें कि अभिनेता संजीव कुमार का असली नाम हरिभाई जरीवाला था। इन्हाेंने अपने करियर के शुरुआती दौर में कई बी ग्रेड एक्शन फिल्मों में काम किया है। वहीं उन्हें शुरु में कई फिल्मों के स्क्रीन टेस्ट में फेल भी कर दिया गया था।

यह भी पढ़े:- रजनीकांत के साथ सिर्फ इन बॉलीवुड एक्टर्स को ही मिला एक्टिंग करने का Golden Chance

जानकारी के लिए बता दें कि संजीव कुमार 9 जुलाई को अपना बर्थडे सेलिब्रेट करते थे। इसी दिन एक्टर शत्रुघन सिन्हा का जन्मदिन भी पड़ता है। मालूम हो कि दोनों काफी अच्छे दोस्त थे और अपना बर्थडे भी साथ ही सेलिब्रेट करते थे। फिलहाल 1985 में संजीव कुमार ने हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया। वहीं शत्रुघन सिन्हा ने भी कुछ समय पहले ही फिल्मों में एक्टिंग करना छोड़ कर राजनीती ज्वाइन कर ली। संजीव कुमार ने साल 1960 में फिल्म 'हम हिंदुस्तानी' से बॉलीवुड में डेब्यू किया था पर उन्हें बतौर लीड एक्टर 1965 में आई फिल्म 'निशान' से पहचान मिली। वहीं 1968 में आई फिल्म 'संघर्ष' में एक्टर दिलीप कुमार के साथ बराबर स्क्रीन शेयर की।

यह भी पढ़े:-  Bigg Boss 12: आखिर क्यों श्रीसंत पर भड़का हैप्पी क्लब, इन कंटेस्टेंट ने मचाया घर में बवाल

इन अवॉर्ड्स से हो चुके सम्मानित...

संजीव कुमार को अपने बेहतरीन अभिनय के लिए फिल्म 'दस्तक' और 'कोशिश' में दो नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है। मालूम हो कि फिल्म 'कोशिश' में उन्होंने मूक-बधिर व्यक्ति की शानदार भूमिका निभाई थी। मिड डे कि एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब 9 फिल्मों में संजीव कुमार ने म्युजिशियन गुलजार  के साथ मिल कर फिल्म बतौर मेकर कम लिरिक्स राइटर काम किया था।

यह भी पढ़े:- Shocking: देश-विदेश में प्रसिद्ध भजन सम्राट के निधन से हर तरफ छाया मातम का माहाैल

जानिए संजीव कुमार के परिवार को काैन सा खतरनाक श्रॉप मिला था...

संजीव कुमार को ये विश्वास था कि उनके परिवार में कोई भी पुरुष 50 साल से ज्यादा नहीं जीता। उन्हें लगता था कि उनके परिवार को ऐसा कोई श्राप मिला है। खुद संजीव कुमार भी 47 साल की उम्र में हार्ट अटैक पड़ने की वजह से चल बसे थे। 

यह भी पढ़े:- Photos: दिवाली से पहले सैफ और करीना संग यूं मस्ती करते दिखे लाडले तैमूर

निधन के बाद जाने क्या हुआ था खास...

संजीव कुमार के निधन के बाद उनकी करीब 10 फिल्में एक बाद एक लगातार रिलीज हुईं। इनमें  1993 में रिलीज हुई फिल्म 'प्रॉफेसर की पडो़सन' के आधे शूट के बाद संजीव हमेशा के लिए ये दुनिया छोड़ कर चले गए। इसलिए फिल्म के सेकंड हॉफ में उनके रोल को ही खत्म कर दिया गया। भले ही उन्हाेंने दुनिया काे अलविदा कह दिया हाे लेकिन आज भी ये अपने चाहनाें वालाें के बीच जिंदा हैं। 

यह भी पढ़े:- Bigg Boss 12: भागने के लिए छत की दीवार पर चढ़े शिवाशीष ने इस कंटेस्टेंट काे सुनार्इ खरी-खोटी, क्याेंकि...

यह भी पढ़े:-  देखिए प्रियंका की Bachelorette Party में ईशा अंबानी-परिणीति का हाॅट अंदाज

यह भी पढ़े:-  आखिर क्या थी वजह जिससे दुखी हो A. R. Rahman करना चाहते थे आत्महत्या

यह भी पढ़े:- #sajid khan,     #MeToo Anu malik ,   #Metoo Subhash ghai     #Metoo Kailash Kher 

 

 

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: know about this Star and his family course real fact

More News From bollywood

IPL 2019 News Update
free stats