image

नई दिल्लीः अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने संबंधी बयान पर विपक्षी दलों ने आज राज्यसभा में जमकर हंगामा किया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की, जिससे सदन की कार्यवाही बारह बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

सभापति एम वेंकैया नायडू ने विधायी दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाने के बाद कहा कि उन्हें कांग्रेस के आनंद शर्मा और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के डी राजा के ट्रंप के बयान पर नियम 267 के तहत नोटिस मिले हैं, लेकिन उन्होंने इन्हें अस्वीकार कर दिया है लेकिन सदस्य शून्यकाल में अपनी बात रख सकते हैं। नायडू ने कहा कि यह बेहद संवदेनशील और देश की एकता से जुड़ा मुद्दा है जिस पर समूचे देश और दोनों सदनों की ओर से केवल एक ही संदेश जाना चाहिए।

शर्मा और राजा ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बयान पर गंभीर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह राष्ट्र की एकता और अखंडता से जुड़ा मुद्दा है और खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सदन में इस पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। विपक्षी सदस्याें ने कहा कि खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस बारे में स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और वामदलों के सदस्य अपनी जगहों पर खड़े होकर प्रधानमंत्री के वक्तव्य की मांग करने लगे। नायडू ने कहा कि सदस्यों को अपने विदेश मंत्री के बजाय अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान पर ज्यादा विश्वास है।

उन्होंने सदस्यों से कहा कि वे राष्ट्र हित के इस मुद्दे पर राजनीति न करें और उनके इस व्यवहार से गलत संदेश जा रहा हैं। इस पर तृणमूल कांग्रेस के सदन में नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कुछ कहा जिससे सभापति उत्तेजित हो गये और उन्होंने सदन की कार्यवाही बारह बजे तक स्थगित कर दी हैं।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Kashmir Issue: Trump Statement On Ruckus In Rajya Sabha, Demand Clarification From PM Modi

More News From national

Next Stories
image

free stats