image

एयर इंडिया के अधिग्रहण की दौड़ से इंडिगो के बाद जेट एयरवेज राष्ट्रीय विमामन कंपनी भी बाहर हो गई है। जेट एयरवेज ने कहा कि वह एयर इंडिया के विनिवेश की प्रक्रिया में शामिल नहीं होगी। इस बात की घोषणा मंगलवार को की गई। 

आपको बता दें  इससे पहले इंडिगो ने 5 अप्रैल को एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया में भाग नहीं लेने का ऐलान किया था। घाटे में चल रही एयर इंडिया और उसकी 2 सहायक कंपनियों की बिक्री प्रक्रिया में अड़चनें आती दिख रही हैं। क्योंकि दो संभावित बोली लगाने वाली कंपनियों ने इस प्रक्रिया से बाहर रहने का फैसला किया है।

Read more: एयर इंडिया को खरीदने के लिए इस कंपनी ने दिखाई रुचि

आपको बता दें एयर इंडिया की हिस्सेदारी खरीदने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) देने की अंतिम तारीख 14 मई है और योग्य बिडर्स की घोषणा 28 मई को होगी। वहीं एयर इंडिया की जिन दो सब्सिडियरी का विनिवेश होना है उनमें मुनाफे में चल रही एयर इंडिया एक्सप्रेस और एआईएसएटीएस शामिल हैं। सरकार ने हाल में प्रिलिमनरी इन्फॉर्मेशन मेमोरेंडम जारी किया था। इसमें एयर इंडिया में सरकार की 76% तक हिस्सेदारी बेचने और इसका मैनेजमेंट कंट्रोल निजी कंपनियों को हस्तांतरित करने का जिक्र था। 

वहीं जेट एयरवेज के डिप्टी सीईओ और सीएफओ अमित अग्रवाल ने कहा, ‘हम एयर इंडिया के निजीकरण के फैसले का स्वागत करते हैं। लेकिन शर्तों और हमारी समीक्षा के आधार पर हमने इस प्रक्रिया में भाग नहीं लेने का फैसला किया है।’ हालांकि उन्होंने इस फैसले के पीछे की वजहों का खुलासा नहीं किया। पिछले महीने सूत्रों ने कहा था कि जेट एयरवेज, एयर फ्रांस-केएलएम और डेल्टा एयरलाइंस का कंसोर्टियम एयर इंडिया में सरकारी की हिस्सेदारी खरीदने के इच्छुक हैं। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: jet airways not to take part in air india divestment

More News From business

IPL 2019 News Update
free stats