image

आंध्र प्रदेशः ग्रामीण भारत के बारे में महात्मा गांधी के विचारों को आज भी प्रासंगिक बताते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुव्रवार को कहा कि अब समय आ गया है कि हम वंचितों, छात्रों और जरुरतमंदों को अपना योगदान देकर समाज का ऋण वापस लौटायें।

कोविंद ने यहाँ स्वर्ण भारत ट्रस्ट के 18वें स्थापना दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि हम आज जिस भी स्थान पर पहुंचे हैं, जो भी उपलब्धि हासिल की है, उसके पीछे समाज का आशीर्वाद और प्रयासों का भी योगदान है। उन्होंने कहा कि समय आ गया है कि अब वंचित लोगों, वंचित छात्रों और जरुरतमंदों को योगदान देकर समाज का रिण वापस लौटाया जाये। राष्ट्रपति ने कहा कि ग्रामीण भारत के बारे में महात्मा गांधी के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। नई प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर हम ग्रामीण भारत की बेहतर ढंग से सेवा कर सकते हैं।

उन्होंने स्वर्ण भारत ट्रस्ट की सराहना करते हुए कहा कि इसने महात्मा गांधी के नारे ‘‘चलो गांव की ओर’’ से प्रेरणा ली। उन्होंने कहा कि आज हम पर्यावरण के अनुकूल वस्त्र की बात करते हैं लेकिन एक सदी पहले गांधीजी ने लोगों से अपने निजी इस्तेमाल के लिए चरखा कातने की अपील की थी।
 
कोविंद ने साथ ही कहा कि स्वच्छ भारत मिशन और आधुनिक स्वच्छता सुविधाओं तक सभी लोगों की पहुंच सुनिश्वित करने में मिली सफलता महात्मा गांधी को उनकी 150वीं जयंती पर श्रेष्ठ श्रद्धांजलि है। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट एक और महान विभूति से प्रेरित है जिनका नाम नानाजी देशमुख है। वह एक आदर्श सुधारवादी थे और मध्य प्रदेश के चित्रकूट में किए गए उनके कार्य तो संपूर्ण देश के लिए एक उदाहरण हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार यहां स्वर्ण भारत ट्रस्ट की 18वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक कार्यव्रम में हिस्सा लिया। उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने इस गैर सरकारी संगठन की शुरुआत की थी। उन्होंने छात्रों द्वारा पेश किये गये सांस्कृतिक कार्यव्रमों को भी देखा। उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के गृह जिले नेल्लोर से शुरु हुए इस ट्रस्ट ने अपनी गतिविधियों का विस्तार विजयवाड़ा और हैदराबाद तक किया है।

यह ट्रस्ट ज्यादातर स्वास्थ्य देखभाल, कृषक कल्याण, महिला सशक्तिकरण और युवाओं के बीच कौशल विकास जैसे ग्रामीण विकास से जुड़े क्षेत्रों में काम करता है। इससे पहले राष्ट्रपति चेन्नई से वायुसेना के विशेष विमान से उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के मूल निवास वेंकटचलम गांव पहुंचे। कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और ई एल नरंिसहन भी मौजूद थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: It's time to return the debt of society: Covind

More News From national

free stats