image

मालदीव में गर्माया हुआ संकट अब चरम सीमा पर पहुंच गया है। इसी के चलते मालदीव सरकार ने भारत सरकार में इस मामले में दखल देने की अपील की है। वहीं भारत ने भी संकेत दिए हैं कि वो इस संकट के बीच मानक संचालन प्रक्रिया(एसओपी) का पालन कर सकता है। जिसमें सेना को तैयार रखना शामिल है। वहीं भारत ने मालदीव के हालात देखते हुए एसओपी के तहत पहले ही यात्रा परामर्श जारी कर चुका है। 

वहीं मालदीव में भारत और चीन के बीच शक्ति संतुलन को लेकर भी जद्दोजहद देखने को मिल रही है। पिछले साल डोकलाम को लेकर तनाव के बाद यह दूसरा मौका है, जब चीन और भारत आमने-सामने हैं। मालदीव में शीर्ष अदालत के आदेश को लेकर भारत ने कहा था कि सरकार को उसके आदेश को मानना चाहिए। इस बीच पिछले साल ही मालदीव के साथ फ्री ट्रेड अग्रीमेंट साइन करने वाले चीन ने कहा कि वहां के 4,00,000 लोगों में पूरे विवाद से निपटने की क्षमता है और किसी को उसमें दखल नहीं देना चाहिए। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: india and china facetoface after doklam

More News From national

Next Stories
image

IPL 2019 News Update
free stats