image

साल 2018 में भारत ने विश्व में टेबल टेनिस खेल में अपनी खास पहचान हासिल की है और इसी खेल में मनिका बत्रा उभर कर सामने आई हैं। एशियन गेम्स मनिका ने अदभूत खेल का परिचय देते हुए भारत की झोली में दो ऐतिहासिक पदक भी दिये हैं। भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी शरत कमल ने इस साल में टेबल टेनिस में भारतीय प्रदर्शन के बारे में कहा, ‘‘दो पदकों की तो बात छोड़िए अगर साल के शुरू किसी ने कहा होता कि हम एशियाई खेलों में एक पदक जीतेंगे तो मैं उसे मजाक समझता। यह इस तरह का साल रहा। यह मेरे लिए और भारतीय टेबल टेनिस के लिये सर्वश्रेष्ठ वर्ष रहा।’’ शरत और मनिका ने मिश्रित युगल में भी कांस्य पदक हासिल किया।

युवराज सिंह ने आखिरकार खोला राज, बताया क्यों हुये थे किंग्स इलेवन पंजाब में फ्लॉप

इस खेल ने जहां लंबी छलांग लगाई वहीं भारत को मनिका के रूप में एक नई स्टार भी मिली। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में महिला टीम और महिला एकल में स्वर्ण सहित कुल चार पदक जीते। मनिका ने महिला एकल में विश्व की तत्कालीन नंबर चार खिलाड़ी सिंगापुर फेंग तियानवी को दो बार हराया। बाद में उन्होंने युगल में रजत और मिश्रित युगल में कांस्य पदक भी अपनी झोली में डाला। अपने इस प्रदर्शन के कारण उन्होंने अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस महासंघ (आईटीटीएफ) का उदीयमान स्टार का पुरस्कार भी जीता।

मिताली वनडे और हरमनप्रीत ट्वंटी-20 टीमों की कप्तानी संभालेंगी 

शरत और साथियान ने भी साल के आखिर में अपनी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग हासिल की। शरत ताजा रैंकिंग में 30वें और साथियान 31वें स्थान पर हैं। भारतीय खिलाड़ी अगले साल ओलंपिक क्वालिफिकेशन को ध्यान में रखकर 14 से 16 प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेंगे। भारत का लक्ष्य अब ओलंपिक में पदक जीतकर इतिहास रचना होगा और खिलाड़ियों ने इसकी उम्मीदें जगा दी है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: In year 2018 this table tennis sensation came in front, hope for olympic medal

More News From sports

IPL 2019 News Update
free stats