image

पटनाः करोडों रुपये के चारा घोटाला मामले में जेल की सजा काट रहे राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के सुरक्षागार्ड को बिहार सरकार द्वारा वापस बुलाए जाने पर उनकी पत्नी एवं पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी ने आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक पत्र लिखा और कहा कि यदि उनके और उनके परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना होती है तो इसकी जिम्मेदारी गृह विभाग और विभागीय मंत्री नीतीश कुमारी की होगी। राबडी ने नीतीश को पत्र लिखते हुए अपनी और अपने दोनों पुत्रों बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव और विधायक तेजप्रताप यादव की सुरक्षा में लगे जवानों को आज लौटाते हुए कहा है कि यदि उनके और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ किसी प्रकार की अप्रिय घटना घटती है तो इसकी जिम्मेदारी गृह विभाग और विभागीय मंत्री नीतीश कुमारी की होगी। उल्लेखनीय है कि लालू प्रसाद के रेल मंत्री रहते हुए होटल टेंडर मामले को लेकर सीबीआई द्वारा कल पटना के दस सकरुलर स्थित सरकारी आवास पर राबडी और तेजस्वी से दिन में पूछताछ की गयी थी और कल रात राबडी के आवास पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों को वापस बुला लिया गया था।

तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर ईष्र्यावश बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता के नाते कैबिनेट मंत्री के समान प्राप्त अधिकारों को दरकिनार करते हुए सरकारी आवास ख़ाली करने का नोटिस निर्गत करवाने और उनके परिवार की सुरक्षा कटौती के लिए दूत भेजने का आरोप लगाया था। राबडी ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा, ‘‘मेरे और मेरे परिवार के साथ किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना होती है तो उसकी जिम्मेदारी गृह विभाग एवं गृह विभाग के मंत्री की होगी।’’ बाद में पत्रकारों से बातचीत में राबडी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर ऐसा करके लालू परिवार को खत्म की साजिश करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब उनकी सुरक्षा भगवान और प्रदेश की जनता के भरोसे है।
उन्होंने कहा कि उनकी एवं उनके परिवार की सुरक्षा अब बिहार की जनता एवं कार्यकर्ता करेंगे। बिहार विधानपरिषद में राजद सदस्य सुबोध कुमार ने राबडी और तेजस्वी की सुरक्षा में कटौती किए जाने को उन्हें अपमानित करने वाली कार्रवाई की संज्ञा देते हुए आज प्रदेश के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर अपनी सुरक्षा में लगे तीन जवानों को वापस लौटा दिया है। राजग छोडकर हाल ही में राजद के साथ हाथ मिलाने वाले हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने आज राबडी के आवास पहुंचकर उनसे मुलाकात की और बाद में पत्रकारों से कहा कि यह ऐसे समय में किया गया है जब लालू के बडे पुत्र की शादी है।

इस बीच अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) एस के सिंघल ने आज स्पष्ट किया कि उनकी राबडी देवी सुरक्षा व्यवस्था न तो हटायी गयी है और न ही उसमें किसी प्रकार की कमी या कटौती की गयी है। केवल पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के साथ प्रतिनियुक्त बीएमपी के बल को उनके न्यायिक हिरासत में रहने के फलस्वरुप वापस किया गया है। वहीं बिहार में सत्ताधारी पार्टी जदयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि जिसके ऊपर आरोप तय हो गया है और जो व्यक्ति जेल के भीतर है उसको सुरक्षा की क्या जरुरत है। संविधान यह नहीं कहता कि जिसको सजा हो जाए उसे भी सुरक्षागार्ड मिले। ?सरकार नियम कानून से चलती है और कानून अपना काम करता है उसके दायरे में यह कार्रवाई हुई है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: if anything happens to me and my family then it will be responsible home department rabdi devi

More News From national

Next Stories
image

free stats