image

एकेएफ आई भारतीय कबड्डी संघ के प्रधान ने किया खेल की आड़ में भ्रष्टाचार
 भारतीय कबड्डी संघ के नवनियुक्त प्रधान सुरेंद्र कुमार, महासचिव रोहताश नांदल और उपाध्यक्ष प्रवीन यादव ने कहा कि कबड्डी का खेल कहने को तो भारतीय पंरम्परागत खेल है, लेकिन पिछले 20 वर्षों से इस खेल की आड़ में भ्रष्टाचार का जो जाल फैलाने का काम एकेएफ आई भारतीय कबड्डी संघ के प्रधान ने किया है, ऐसा पहले किसी भी संघ द्वारा नहीं किया होगा। क्योंकि उसके खिलाफ  प्रतिभावान खिलाड़ियों के साथ नाइंसाफी कर धनाढ्य लोगों से पैसे के बल पर खेल में दूसरे खिलाड़ियों को आगे लाने के आरोप लगे हैं। यहां तक के बंगाल, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली जैसे राज्यों के शहरों में एफ .आई.आर. तब दर्ज है। वे सभी रविवार को बुलबुल काम्प्लैक्स में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने केंद्र सरकार, खेल मंत्रालय एवं इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन से सभी पहलुओं पर सी.बी.आई. जांच करवाने और इस भ्रष्ट पदाधिकारियों को तुरंत प्रभाव से कबड्डी संघ से बेदखल करने की मांग की ताकि देश के ग्रामीण आंचल में बैठे अच्छी प्रतिभा वाले खिलाड़ियों को अपना भविष्य बनाने का अवसर मिल सके। प्रधान सुरेंद्र कुमार ने कहा कि गहलोत ने भ्रष्टाचार के दम पर राष्ट्रीय  और अंतर्राष्ट्रीय  स्तर पर खिलाड़ियों से रुपए लेना, महिला खिलाड़ियों को तरह-तरह की यातनाएं देकर सैंकड़ों की तादाद में खेल प्रमाण पत्र बेचने का गोरख धंधा चला रखा है। इस गोरख धंधे में 2005 में दिल्ली के मुखर्जीनगर पुलिस स्टेशन में कई एफ आईआर एकेएफ आई भारतीय कबड्डी संघ के प्रधान जनार्धन गहलोत और सचिव गोविंद नारायण राजस्थान के खिलाफ  दर्ज हुई हैं। सुरेंद्र कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्टीय खेलों के खिलाड़ियों का चयन जनार्धन के घर से होता है व गोल्ड मैडल की एवज में जीते रुपए सरकार खिलाड़ियों को देती है उससे पहले ही कई गुणा रुपए खिलाड़ियों से वसूलने का काम करता है। जितना बड़ा भ्रष्ट व्यापार खेलों के माध्यम से गहलोत ने किया है, इतना तो बड़े से बड़ा अपराधी भी नहीं कर सकता। इसी के चलते कबड्डी भारत का परंपरागत और मूल खेल होने के बाद भी आज तक कॉमनवैल्थ और ओलम्पिक में शामिल नहीं हो पाया है जोकि भारत के खिलाड़ियों के लिए दुर्भाग्य की बात है।भारतीय कबड्डी संघ के पदाधिकारियों ने खिलाड़ियों के उज्ज्वल भविष्य को देखते हुए केंद्र सरकार, खेल मंत्रालय एवं इंडियन ओलंपिक एसो. से सभी पहलुओं पर सीबीआई जांच करवाने व इस भ्रष्ट पदाधिकारियों को तुरंत प्रभाव से कबड्डी संघ से बेदखल करने की मांग करती है  और नवनीत को दिए गए अर्जुन अवार्ड छीनकर जिस खिलाड़ी का हक था उसे उसका हक दिया जाना चाहिए। इस मौके हरियाणा कबड्डी संघ के प्रधान विजय प्रकाश, अंतर्राष्ट्रीय कबड्डी खिलाड़ी नरेश पहलवान, रणधीर सिंह श्योराण, मीडिया बोर्ड के चेयरमैन आनंद लाठर, विजेंद्र सिंह मौजूद थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: government must investigate case through cbi surendra

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats