image

गोहाना: गांव मुण्डलाना के ग्रामीण इन दिनो गांव के पास बनी दो टायर जलाने वाली फैक्टरियों से परेशान और भयभीत है। ग्रामीण इन फैक्टरियों से निकलने वाले धुंअे और दूषित पानी से परेशान है। इसके लिए ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को चिठ्ठी लिखकर इन फैक्टरियों को बंद करने की गुहार लगाई है।  यूं तो सरकार स्मॉग को लेकर काफी चिंतित है लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में लगी इन फैक्टरियों ने ग्रामीणों को भारी नुक्सान हो रहा है। फैक्टरियों के पास की जमीन खराब हो रही है। गांव के सरपंच अजीत लठवाल ने बताया कि इन फैक्टरियों के कारण गांव में अकसर ऐसी दुरगंध आती है जैसे घरेलु गैस सिलैंडर के लीक होने पर आती है।

 

अन फैक्टरियों से निकलने वाले धुंअे से गांव में सांस का रोग दस्तक दे चुका है। पिछले सालों की तुलना में गांव में श्वास के रोगियों में बढ़ोतरी हुई है। इतना ही नही फैक्टरी में जो टायर जलाये जाते है उसकी वजह से राख भी उड़ती है और वो राख आस-पास की फसल समेत पेड़-पौधों पर जम जाती है जिस कारण कुछ ही समय बाद वो पौधा सूख जाता है। ग्रामीणों ने बताया कि फैक्टरियों से निकलने वाले कैमिकल से आस-पास की ऊपजाऊ भूमि को भारी नुक्सान हो रहा है। खेतों के पास कैमिकल सड़ता रहता है। अगर गलती से पशु इसे पानी समझ कर पी ले तो वो तुरंत बीमार पड़ जाता है। फैक्टरियों की वजह से तीन गांव प्रभावित हो रहे है जिनमें मुण्डलाना, चिडाना और सिरसाढ़ शामिल है। ऐसे में ग्रामीण मांग करते है कि ये फैक्टरियां ग्रामीण क्षेत्र से दूर निकाली जांए गांव के पास से इन्हें तुरंत बंद करवाया जाए। ग्रामीण इस संदर्भ में मुख्यमंत्री के नाम एक चिठ्?ठी भी लिख चुके है अगर समय रहते कार्यवाही नही की गई तो इसके लिए व्यापक आंदोलन चलाएंगे। इस मौके पर  विजय, विकास, बंटी, परमेश, मोनू, सोनू, ऋृषि, मनीष, भोलू, अजय आदि मौजूद थे। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: fear of tireburning factories in rural mandalana

IPL 2019 News Update
free stats