image

सोशल मीडिया दिग्गज फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म से हजारों एप्स को यूजर डाटा एक्सैस करने से ब्लॉक किया है। बता दें कि कैंब्रिज एनालिटिका डाटा स्कैंडल के बाद से फेसबुक ने सावधानी बरतना शुरू कर दिया है और फेसबुक पर दूसरे एप्प को यूजर एक्सैस देने में भी कई शर्तें रखी हैं। फेसबुक प्रोडक्ट पार्टनर्शिप वाइस प्रैसीडैंट ने कहा है, ‘फेसबुक ने हजारों एपीआई एक्सैस को हटाया है जो एक्टिव नहीं थे और इन्होंने एप्प रिव्यू के लिए आवेदन नहीं किया था।’

उन्होंने यह भी कहा कि ये बदलाव करके हमारा उद्देश्य ये सुनिश्चित करना है कि हम फेसबुक पर यूजर्स की जानकारी की रक्षा कर सकें और डिवेलपर्स को बेहतर सोशल एक्सपीरियंस का मौका दें, जैसे ग्रुप को मैनेज करना, ट्रिप प्लान करना या आपके फेवरेट बैंड के कॉनसर्ट का टिकट बुक कराना। फेसबुक पर कई एप्स होते हैं। थर्ड पार्टी डिवेलपर्स इन एप्स से यूजर्स को इंगेज करते हैं जिससे लोग ज्यादा समय तक फेसबुक पर बिता सकें। इससे दोनों का फायदा होता है। डिवेलपर्स और फेसबुक दोनों ही इससे पैसे कमाते हैं। डिवेलपर्स को फेसबुक के यूजरबेस का फायदा मिलता है और फेसबुक को लोगों का स्टे टाइम मिलता है जो वो उस एप्प की वजह फेसबुक की सर्विस यूज कर रहे होते हैं।

एप्प एक्सैस के लिए डिवेलपर को फेसबुक की इजाजत लेनी होती है। लॉग इन विद एप्प का फीचर अब ज्यादातर एप्स में मिलता है। इससे यूजर्स बिना उस एप्प पर रजिस्टर किए हुए फेसबुक की जानकारियों से उस एप्प में लॉग इन कर सकते हैं। ऐसा करके वो एप्प यूजर्स की जानकारी ले लेता है। हालांकि इसके लिए वो एप्प आपसे परमिशन भी मांगता है। दरअसल, फेसबुक ने ऐसे ही हजारों एप्स को हटाया है जिन्होंने रिव्यू प्रोसैस में हिस्सा नहीं लिया और वो इनएक्टिव थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Facebook removes thousands of apps

More News From business

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats