image

अमृतसर: सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों का शोषण कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यदि अस्पताल में सरकारी दवा होने के बावजूद उस साल्ट की अथवा उससे मिलते जुलते किसी साल्ट की कोई भी दवा मरीज को बाहर से खरीदने पर मजबूर किया गया तो उस डॉक्टर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यह कहना है जिले के नवनियुक्त सिविल सर्जन डॉक्टर हरदीप सिंह घई का। वह दैनिक सवेरा से विशेष बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उनका मुख्य मकसद लोगों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाना है। साथ ही सरकारी योजनाओं का लाभ जनता को देना है। हाल ही में इंटेलिजेंस विभाग द्वारा एक रिपोर्ट तैयार की गई जिसमें सिविल अस्पताल, टी बी अस्पताल के डॉक्टरों का नाम सामने आए हैं कि वह मरीजों को बाहर से महंगी दवाइयां लिख कर देते हैं और उनका शोषण कर रहे हैं? इस संबंधी पूछे जाने पर डॉक्टर घई ने स्पष्ट किया कि ऐसे डॉक्टरों का तबादला जिले से बाहर करवाने की सिफारिश खुद करेंगे, जो मरीजों का शोषण करते हों। उन्होंने कहा कि उन्हें सूचना मिली है कि सिविल सर्जन कार्यालय में डेथ एंड बर्थ का काम काफी धीमी गति से चल रहा है। वह कोशिश करेंगे कि इसकी पेंडंसी जीरो तक लाई जाए और लोगों को समय पर सर्टिफिकेट दिए जाएं। इसके अलावा जिन लोगों के मैडिकल रिमर्समेंट बिल रुके हुए हैं उनके बिल भी शीघ्र पास करवाए जाएंगे ताकि लोगों को किसी तरह की कोई मुश्किल ना हो। वह बोले कि गर्मियां शुरू हो चुके हैं। जिले में वैक्टर बान डिजीज पर काबू पाने के लिए अभी से ही काम करना होगा। इसके लिए उन्होंेने नगर निगम, पीड्ब्ल्यूडी के अलावा अन्य विभागों के सहयोग की आवश्यकता है। क्योंकि कई इलाकों में गंदा पानी पीने के कारण बीमारियां फैल जाती हैं। उसके लिए सेहत विभाग नहीं, बल्कि निगम जिम्मेदार होता है। वह इसके लिए डिप्टी कमिश्नर से भी बात करके दूसरे विभागों को दिशा निर्देश जारी करवाएंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र शुरू होने वाला है कई बार सेहत विभाग संबंधी कई सवाल विधानसभा में पूछे जाते हैं। इन तमाम सवालों के जवाबों को तैयार करने के लिए उन्होंने डॉक्टर सेठी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। इस मौके पर कई को सिविल अस्पताल एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से सम्मानित किया गया। जिनमें राकेश शर्मा, संजीव आनंद, डा. चरणजीत सिंह, उनके साथी शामिल थे। इस अवसर पर जिला सेहत अधिकारी डॉक्टर लखबीर सिंह भागोवालिया, सिविल अस्पताल के सीनियर मेडिकल अधिकारी चरणजीत सिंह, अजनाला के डॉक्टर ब्रिज सहगल, जगजीत सिंह, संजीव आनंद, रघु तलवाड़, निर्मल सिंह, डा. प्रभजीत कौर, डा. शरणजीत कौर सिद्धू, अखिलेश कुमार, डा. मदन मदन मोहन, दीपक देवगन आदि विशेष रूप से मौजूद थे। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: doctors will be taking action against patients

More News From amritsar

Next Stories
image

free stats