image

तरनतारन:  उल्टी और दस्त की शिकायत कारण तरनतारन के मोहल्ला भाग शाह स्थित अजरुन अस्पताल में दाखिल करवाए गए 2 वर्षीय मासूम मानक शर्मा नामक बच्चे की इलाज दौरान मौत हो गई। परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टर पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते नारेबाजी की। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। मोहल्ला गोकलपुरा निवासी नरिंदर कुमार शर्मा पुत्र राम गोपाल का 2 वर्षीय लड़का मानक शर्मा रविवार को बीमार हो गया। परिजनों ने उसे शहर के मोहल्ला भाग शाह स्थित एक अस्पताल में रविवार को दाखिल करवाया गया। 2 दिनों में डा. प्रभप्रीत कौर द्वारा मानक के विभिन्न टैस्ट करवाए गए, जो नार्मल रहे। मंगलवार की रात मानक की तबीयत बिगड़ गई। इस दौरान डॉक्टर द्वारा उसे इंजैक्शन लगाया गया। इंजैक्शन लगने के बाद मानक के शरीर का रंग नीला पड़ गया। नरिंदर कुमार ने बताया कि उक्त डाक्टर द्वारा कहा गया कि बच्चे कीतबीयत खराब है। उसका यहा पर इलाज संभव नहीं। फिर डॉक्टर ने आधी रात 2:40 बजे अमृतसर के के.डी. अस्पताल से एंबुलैंस मंगवा ली। के.डी. अस्पताल में 3:50 बजे मानक को मृतक घोषित किया गया। इसके बाद मानक का शव लेकर परिजन तरनतारन के अस्पताल लेकर पहुंचे। इस मौके सुखविंदर कौर, अवतार शर्मा, विशाल कुमार, सतीश कुमार, जीत सिंह, रिंकू जोशी, सन्नी शर्मा और निरवैल सिंह ने आरोप लगाया कि तरनतारन अस्पताल की लापरवाही कारण मासूम बच्चे की मौत हुई है। रैफर करते समय ट्रीटमैंट स्लिप नहीं दी गई बजरंग दल के जिलाध्यक्ष सतीश कुमार ने कहा कि मानक को तरनतारन अस्पताल से अमृतसर रैफर करते समय ट्रीटमैंट स्लिप नहीं दी गई। जो अस्पताल की बड़ी लापरवाही है। उन्होंने कहा कि मासूम को गलत इंजैक्शन देने कारण उसकी मौत हुई है। अगर पुलिस ने इस मामले में कानूनी कार्रवाई करते ढील बरती तो प्रशासन खिलाफ संघर्ष किया जाएगा। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: doctors negligence sons death after injection

More News From amritsar

Next Stories
image

free stats