image

चंडीगढ़ : आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यूं ही नहीं शिअद नेता विक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांग ली। इसके पीछे महीनों से हो रही गुपचुप बातचीत है। इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने माफी मांगने का फैसला लिया। वार्ता के दौरान आम आदमी पार्टी मुखिया केजरीवाल ने शिरोमणि अकाली दल नेतृत्व को आश्वस्त किया कि माफी के फैसले पर वे अपनी पार्टी के सभी नेताओं को एक राय करेंगे। उधर अरविंद केजरीवाल के इस फैसले के बाद पार्टी के अंदरखाने विद्रोह की स्थिति सामने आ रही है। द प्रिंट की रिपोर्ट के मुताबिक दोनों दलों के बीच पिछले दरवाजे से कई बार बातचीत हो रही थी। आप के एक वरिष्ठ नेता ने केजरीवाल की ओर से बिक्रम मजीठिया से संपर्क साधा। इसके बाद माफी की पेशकश हुई। रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली और चंडीगढ़ में कम से कम दो मौकौं पर अरविंद केजरीवाल और बिक्रम मजीठिया की बैठकें हुईं।

केजरीवाल का वादा, नहीं करेंगे निजी टिप्पणी
सूत्रों के अनुसार पहले केजरीवाल ने मजीठिया से कहा कि राजनीतिक वजहों से ऐसी बातें बोलनी पड़ी, लेकिन मजीठिया ने कहा कि वे बातें बहुत गंभीर थीं, जिसमें ड्रग्स कारोबार में हाथ बताया गया। ये उनकी छवि धूमिल करने के लिए गढ़ा गया था। सूत्रों का कहना है कि अरविंद केजरीवाल ने जो माफी मांगी, उसकी पूरी स्क्रिप्ट मजीठिया की लीगल टीम ने तैयार किया। साथ ही केजरीवाल ने यह वादा भी किया कि भविष्य में वह मजीठिया के खिलाफ कुछ भी निजी टिप्पणी नहीं करेंगे। जानकारी के अनुसार मजीठिया के करीबी और शिरोमणि अकाली दल के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि केजरीवाल केस दर्ज होने के बाद से ही इसका निपटारा कोर्ट से बाहर करने के लिए बेताब थे।

दोनों में तय हुआ था कि नहीं होगी बयानबाजी
सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल और मजीठिया की बातचीत के दौरान यह तय हुआ था कि माफी मांगने के बाद केजरीवाल और उनकी पार्टी की इस पर कोई राजनीतिक बयानबाजी भी नहीं होगी। वहीं राजौरी गार्डन से विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने केजरीवाल की माफी पर चुटकी लेते इसे झूठ की गलती स्वीकार करना बताया। सूत्र बताते हैं कि दोनों पक्षों की बातचीत में सिरसा की भी भूमिका अहम रही। हालांकि उन्होंने पूछे जाने पर कहा कि यह संवेदनशील मामला है। न वो इन्कार करते हैं और न ही इसकी पुष्टि करते हैं। वहीं जालंधर में केजरीवाल के मामले पर बोलते हुए मजीठिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी के दो नेताओं ने तो माफी मांग ली है। उन्होंने कहा कि बाकी लोगों की भी अब खैर नहीं है। बिक्रम मजीठिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी ने पंजाब के युवाओं को बदनाम करने की कोशिश की थी।

नशा तस्करी में शामिल होने का लगाया था आरोप
आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शिरोमणि अकाली दल के पूर्व राजस्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया पर नशा तस्करी में शामिल होने का आरोप लगाया था। इसके बाद पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने अमृतसर की अदालत में अरविंद केजरीवाल और आप संजय सिंह के खिलाफ अपराधिक मानहानी का केस दर्ज करवाया था। अदालतम में केजरीवाल ने लिखित रूप से मजीठिया से माफी मांगी है। आप संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अदालत में सभी बयानों और आरोपों के लिए हल्फनामा दायर कर माफी मांगी है। इसके बाद बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा कि उन्होंने दोनों को माफ कर दिया है।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: defamation case the apology from kejriwals majithia was already fixed

More News From punjab

IPL 2019 News Update
free stats