image

चंडीगढ़ : आम आदमी पार्टी (आप) सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल की ओर से शिअद नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगे जाने के  बाद पंजाब में ‘आप’ 2 हिस्सों में बंटी नजर आ रही है। रविवार देर शाम ‘आप’ के शीर्ष नेतृत्व द्वारा डैमेज कंट्रोल के लिए बुलाई गई पंजाब के विधायकों की बैठक में विधायकों की नाराजगी और माफी से पंजाब की सियासत और पार्टी पर आए संकट पर चर्चा की गई। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री एवं पंजाब इंचार्ज मनीष सिसौदिया के निवास पर हुई बैठक में 20 में से 10 विधायकों ने हिस्सा लिया। पहले सिसौदिया ने बैठक शुरू की क्योंकि तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए केजरीवाल नहीं पहुंचे। वह माहौल सकारात्मक होने के बाद आए। बैठक से बाहर निकलते ही एक विधायक ने बताया कि उनसे (केजरीवाल व सिसौदिया) पूछा गया कि फैसला लेने से पहले पंजाब के नेताओं से चर्चा क्यों नहीं की गई। केजरीवाल ने सफाई दी कि उन्हें अंदाजा नहीं था कि इतनी भारी नाराजगी होगी। यह फैसला एग्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया था। केजरीवाल और सिसौदिया ने विधायकों को समझाया कि हर दिन कोर्ट के चक्कर लग रहे हैं। करोड़ों रुपए खर्च हो रहे हैं। यह पैसा लोगों का है और हम इसे बर्बाद नहीं करना चाहते। केजरीवाल ने कहा कि माफी जरूर मांगी गई है, लेकिन पंजाब में जो मुद्दे हैं उन पर जंग जारी रहेगी।

‘आप’ के शीर्ष दोनों नेताओं ने पंजाब के विधायकों से इस बात के लिए नाराजगी जताई कि वे पार्टी प्लेटफार्म पर अपनी बात रखने की बजाए मीडिया के पास क्यों गए। इस पर विधायकों ने कहा कि यह फैसला नेता प्रतिपक्ष सुखपाल खैहरा और कंवर संधू का था। बैठक के बाद ज्यादातर विधायक केजरीवाल के जवाब से संतुष्ट नजर आए। बैठक में हिस्सा लेने वाले विधायकों में उप प्रधान पद से इस्तीफा देने वाले अमन अरोड़ा, जय किशन, रुपिंदर कौर रूबी, सर्वजीत कौर माणूके, अमरजीत संदोआ, बुधराम, प्रो. बलजिंदर कौर, हरपाल चीमा, कुलतार सिंह और मंजीत सिंह शामिल हुए।

केजरीवाल ने मान व अरोड़ा के इस्तीफे किए नामंजूर

बैठक में केजरीवाल ने पंजाब प्रधान भगवंत मान और उप प्रधान अमन अरोड़ा का इस्तीफा नामंजूर करते हुए उन्हें पूरी ताकत से लड़ने की हिम्मत दी। केजरीवाल व सिसौदिया ने कहा कि वह बाकी बचे 10 विधायकों से भी बात कर उन्हें जमीनी हालात से अवगत कराएंगे।

पंजाब टीम पर आरोप निराधार : खैहरा

दूसरी ओर, आप विधायक दल के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने मानहानि मामले में पंजाब के नेताओं द्वारा सहयोग न करने आरोपों को निराधार व आपत्तिजनक बताया है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल का पंजाब के हजारों पार्टी कार्यकर्ताओं ने साथ दिया। केजरीवाल जब जमानत के लिए पहुंचे तो पंजाब के हजारों कार्यकर्ताओं ने वहां पहुंचकर उनका साथ दिया। अब ऐसा आरोप लगाना तुच्छ मानसिकता का परिचायक है।

खैहरा ने आज बुलाई बैठक
  उधर, सुखपाल खैहरा ने ‘आप’ विधायकों की सोमवार को प्री-बजट बैठक बुलाई है। नई दिल्ली में बैठक में हिस्सा लेकर वापस आ रहे विधायकों ने बताया कि वह सोमवार को होने वाली बैठक में शामिल होकर बजट सत्र में विपक्ष की तैयारियों पर चर्चा करेंगे।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: damage control mlas asked apologize why kejriwal said because of the political future bets

More News From punjab

Next Stories
image

IPL 2019 News Update
free stats