image

कासगंज के कोतवाली थाना क्षेत्र के निज़ामपुर गांव में पहली बार किसी दलित की बारात घोड़ी पर पहुंची। दूल्हा संजय जाटव की बारात धूमधाम से पुलिसकर्मियो की सुरक्षा में दुल्हन के घर पर निज़ामपुर गाँव में पहुंची। गाँव में दलितों को घोड़ी पर चढ़ने की आज़ादी नहीं थी अभी तक,  पर दुल्हन चाहती थी की उसका दूल्हा घोड़ी पर आए। दलित दूल्हे ने प्रशासन से सुरक्षा व्यवस्था की गुहार लगाई थी और  साथ ही वह अपनी बरात में तैनात 150 पुलिसकर्मियो के बीच लेकर आया।

कासगंज के एडिशनल एसपी पवित्र मोहन त्रिपाठी ने कहा कि शादी की रस्में पूरी होने तक पुलिस मौजूद रही। पुलिसकर्मियों की नजर गांव में हो रही हर गतिविधियों पर रही। दुल्हन की विदाई होने तक निजामपुर गांव में पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद रहें।  इस मामले के लिए संजय जाटव हाईकोर्ट तक भी गए और इसी वजह से यह मामला महीनो से सुर्ख़ियों में था। दुल्हन के घरवाले ख़ुशी के साथ डरे हुए भी थे। गाँव के राजपूतो ने परिजनों को देख लेने की धमकी दी। निजामपुर गांव में 40 ठाकुर परिवार और 5 परिवार जाटव के रहते हैं। इस गांव में कभी भी किसी  दलित दूल्हे की बारात घोड़ी पर निकली। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: dalit man wedding under police protection

More News From uttar-pradesh

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats