image

लेखक - अखिल पाराशर

एक खूबसूरत चीन और एक पारिस्थितिक सभ्यता का निर्माण, देश के संविधान में लिखा गया है ताकि आर्थिक विकास और पारिस्थितिक संरक्षण का समाधान किया जा सके, पर्यावरण प्रशासन के मामले में फासले को भरना और लोगों की आकांक्षाओं और इच्छाओं का अनुपालन किया जा सके। तेजी से आर्थिक विकास के कारण बिगड़ती हावोहवा चीन को प्रभावित करती है, जिसके चलते यह कदम लिया गया।

ख़तरनाक औद्योगिकीकरण की वजह से गंभीर पर्यावरणीय समस्याओं के बारे में व्यापक रूप से अवगत चीन सरकार लोगों की जिंदगी और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और पारिस्थितिक तंत्रों की सुरक्षा के लिए अधिकाधिक सख्त पर्यावरण सुरक्षा उपाय अपना रही है। औद्योगिक विकास और ऊर्जा उत्पादन एवं हीटिंग के लिए कोयले के व्यापक उपयोग से भारी वायु प्रदूषण हुआ है।

अनियमित औद्योगिक (खनन सहित) और घरेलू निर्वहन ने कई क्षेत्रों में मिट्टी और जल निकायों को दूषित किया है। 2014 में, पर्यावरण संरक्षण मंत्रालय ने कहा कि चीन की उत्पादक मिट्टी का 16.1 प्रतिशत भाग प्रदूषित था। घोषित नवीनतम योजना से यह सुनिश्चित करने की संभावना है कि स्थिर आर्थिक विकास जारी रहेगा, ताकि लाखों चीनी लोगों को गरीबी से बाहर निकाला जा सके। मिट्टी, पानी और वायु प्रदूषण को रोकने और नियंत्रण के लिए कार्य योजना भी तैयार कर दी गई है। चूंकि एक खूबसूरत चीन रात भर में नहीं बन सकता है, इसलिए लक्ष्यों को 2020 और 2030 के लिए निर्धारित किए गए हैं, और परिणामों का नियमित रूप से मॉनिटर और आंकलन किया जाएगा, वो इसलिए कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि प्रक्रिया सुचारू रूप से आगे बढ़ सके और अधिकारियों को उनके पर्यावरणीय कार्यों और निर्णयों के लिए जवाबदेह बनाया जाएगा।

नवीनतम योजना देश के विकास प्रतिमान में एक महत्वपूर्ण बदलाव है, जो एक समृद्ध और सुंदर चीन बनाने में मदद करेगी। इसमें ऊर्जा पैदा करने के नए तरीके शामिल हैं, और प्रदूषण के स्तर को उत्तरोत्तर रूप से कम करने के लिए वायु, जल और मिट्टी का प्रबंधन करना शामिल है। एक हरित विकास मॉडल में पनबिजली पैदा करना, ऊर्जा पैदा करने के लिए पवन और सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करना, और कोयले के इस्तेमाल में लगातार कमी करना शामिल है। नीतियों को सख्त नियमों और प्रवर्तन द्वारा समर्थित किया जाएगा, जो कि ज्यादातर अतीत में गायब थे। चीन कुछ वर्षों से हरित विकास का बढ़ावा दे रहा है।

उदाहरण के लिए, 2015 तक, इसने पहले से ही दुनिया की पवन ऊर्जा का लगभग आधा भाग स्थापित कर चुका था। और आने वाले 20 वर्षों में, यह ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों, बिजली के वाहनों में तेज बढ़ोत्तरी, और पर्यावरण पर औद्योगिकीकरण के हानिकारक प्रभावों को नियंत्रित करने के लिए कड़े नियमों और विनियमों के उपयोग में दुनिया का नेतृत्व करने की उम्मीद है। बीजिंग में वायु प्रदूषण को कम करने के हालिया प्रयास सफल हुए हैं। जनवरी में, सरकार ने बताया कि सबसे खतरनाक वायु प्रदूषकों में से एक PM 2.5 का स्तर, प्रति घन मीटर 34 माइक्रोग्राम प्रति गिरा, जो पांच साल पहले स्तर से लगभग एक-तिहाई कम है। 2013 में, जब सरकार ने घोषणा की कि 2018 के लिए PM 2.5 लक्ष्य प्रति घन मीटर 60 माइक्रोग्राम से कम होगा, तो बहुत से विदेशियों ने, यहां तक कि कई चीनी लोगों ने भी इसे बहुत ज्यादा महत्वाकांक्षी बताया और असंभव करार दिया। लेकिन अच्छी योजना और निर्धारित कार्यान्वयन के चलते लक्ष्य हासिल किया गया।

जिस तरह पिछले चार दशकों में चीन का आर्थिक विकास अभूतपूर्व हुआ है, उसे देखते हुए लगता है कि देश किसी भी विकसित देश की तुलना में बहुत तेजी से पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने में अच्छी प्रगति करेगा, जोकि जो पारिस्थितिक सभ्यता और सुंदर चीन के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगा।
(लेखक चाइना रेडियो इंटरनेशनल, बीजिंग में पत्रकार हैं)

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: constitutional amendment to help create beautiful china

More News From national

Next Stories
image

free stats