image

लखनऊः लोकसभा चुनाव में अकेले उतरने के कांग्रेस आलाकमान के फैसले के बाद उत्तर प्रदेश में कांग्रेसियों के चेहरे खिल उठे हैं। प्रदेश में राजनीति के हाशिये पर पहुंची कांग्रेस ने खुद को उबारने के लिये वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ गठबंधन किया था मगर इसके निराशाजनक परिणाम सामने आये थे और पार्टी अब तक के इतिहास में सबसे कम सीटों पर सिमट गयी थी। पार्टी कार्यकर्ताओं को भरोसा है कि खुद के बूते लोकसभा चुनाव में उतरने के फैसले से कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ना तय है।

Read More  अमेरिका में रोलिंग पेपर न देने पर सिख व्यक्ति पर हमला, दाढ़ी खींचकर किया बेइज्जत

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को केवल रायबरेली और अमेठी संसदीय क्षेत्र में मिली जीत से ही संतोष करना पड़ा था जबकि करीब एक दर्जन सीटों पर उसके उम्मीदवार दूसरे नम्बर पर रहे थे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस राज्य में पुन:प्रवर्तन के रास्ते पर निकल पड़ी है। वर्ष 2004 और 2009 में कांग्रेस का प्रदर्शन प्रदेश में ठीक ठाक था और 2019 में पार्टी सभी को चौकाने के लिये कमर कस चुकी है। उन्होने कहा कि प्रदेश में भाजपा विरोधी लहर चरम पर है। लोग महसूस करते है कि केंद्र में भाजपा का एकमात्र विकल्प कांग्रेस है। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Congrats will contest alone in UP elections 2019

More News From national

Next Stories
image

free stats