image

   संयुक्त राष्ट्र मानव बस्ति कार्यक्रम (यूएनएचएसपी) की कार्यकारी प्रमुख माईमुना बिन्ति मोहम्मद शरीफ़ ने हाल में संवाददाता की दिए इन्टरव्यू में कहा कि सुधार और खुलेपन के बाद पिछले 40 सालों में चीन मानव के इतिहास में सबसे बड़े पैमाने वाले शहरीकरण की प्रक्रिया से गुजरा है। तेज़ शहरीकरण से नागरिकों के जीवन में जमीन आसमान का परिवर्तन आया है।  

   उन्होंने कहा कि चीन में शहरीकरण के स्तर की तेज़ उन्नति से बड़ा आर्थिक सामाजिक विकास साकार हुआ, जिससे लाए गए परिवर्तन बहुत उल्लेखनीय है।

   आंकड़ों से पता चला है कि 2017 के अंत में चीनी शहरों और कस्बों में स्थाई निवासियों की संख्या 81 करोड़ थी, जो 1978 के अंत की तुलना में 64 करोड़ से अधिक रही। देश की कुल जनसंख्या में शहरों और कस्बों में रहने वाली आबादी दर 58.52 प्रतिशत रही। इसके साथ ही चीन में शहरों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। 2017 के अंत तक चीन में 661 शहर बने, जो 1978 के अंत से 468 अधिक रहे।

   माईमुना शरीफ़ ने कहा कि तेज़ शहरीकरण की प्रक्रिया में चुनौतियां मौजूद होना अपरिहार्य है। इसके मुकाबले में चीन सरकार ने आधारभूत संस्थापन, पर्यावरण और जीवन स्थिति जैसे क्षेत्रों में सिलसिलेवार सुधार कदम उठाया, उद्देश्य है कि ज्यादा नागरिकों को शहरीकरण से लाभ मिल सकेगा।

उन्होंने कहा कि यूएनएचएसपी चीन समेत सभी देशों का और अच्छा बस्ति वातावरण और सुनहरे जीवन की स्थापना का समर्थन करता है। आशा है कि संबंधित देश हाथ मिलाकर दुनिया भर में हर इंसान को ज्यादा उच्च गुणवत्ता वाले जीवन की प्राप्ति के लिए प्रयास करेंगे।

मैडम शरीफ़ ने कहा कि वर्तमान में चीन सरकार मानव की प्रधानता वाले नए शहरीकरण को आगे बढ़ाने में जोर दे रही है, ताकि नागरिकों की जीवन स्थिति में लगातार सुधार आ सके। जाहिर है कि चीनी शहर में रहने की स्थिति और अच्छी होगी और शहरों का विकास और अनवरत होगा।

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Changes in the life of millions of people has changed in China by the level of urbanization- UN official

More News From international

Next Stories
image

free stats