image

नई दिल्ली: राफेल का मुद्दा जहां कांग्रेस ब्रह्मअस्त्र की तरह इस्तेमाल किए जा रही वहीं भाजपा इस मामले को लेकर परेशान है। सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद भी मुद्दा अभी तक गर्म है। राफेल का यह मुद्दा राजनितिक विवाद का कारण बना हुआ है। इस सौदे को लेकर संसद में भी हंगामा हुआ है। कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी फ्रांस की कंपनी से 36 लड़ाकू विमान खरीदने के इस सौदे में कथित घोटाले एवं गड़बड़ी को लेकर स्त्तासी भाजपा पर हमला किए हुए हैं। इसी सब के बीच आज यानि मंगलवार को विवाद का केंद्र बने राफेल डील पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक CAG की रिपोर्ट को संसद में पेश करेगी।

25 फरवरी को संसदीय समिति के समक्ष पेश होंगे Twitter के CEO

सूत्रों ने कहा कि सरकार इस सौदे पर कैग की रपट मंगलवार को संसद के पटल पर रखेगी। मौजूदा 16वीं लोकसभा का वर्तमान सत्र बुधवार को समाप्त हो रहा है और यह संभवत: इसका आखिरी सत्र है। अप्रैल-मई में आम चुनाव के बाद 17वीं लोक सभा का गठन होगा। कैग की रपट को लेकर पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने रविवार को कुछ सवाल उठाए। उन्होंने इस मामले में हितों के टकराव की बात उठायी है। सिब्बल ने कहा है कि मौजूदा कैग राजीव महर्षि सौदे के समय वित्त सचिव थे और इस सौदे से जुड़े थे ऐसे में उन्हें इसकी ऑडिट से अपने को अलग कर लेना चाहिए।

Youtube ने यूं कसी गलत वीडियोज़ पर लगाम, नहीं करेगा यह काम

हालांकि केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने सिब्बल के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि ‘मनगढ़ंत’ तथ्यों के आधार पर कांग्रेस कैग जैसे संस्थान पर कलंक लगा रही है। जेटली ने रविवार को ट्वीट की एक श्रृंखला में कहा, ‘‘ गलत तथ्यों के आधार पर ‘संस्थानों को नुकसान पहुंचाने वाले’ कैग जैसे संस्थान पर हमला कर रहे हैं। सरकार में 10 साल तक रहने के बाद भी संप्रग के मंत्री यह नहीं जानते कि वित्त सचिव ऐसा पद है जो वित्त मंत्रालय में सबसे वरिष्ठ सचिव को दिया जाता है।’’

Indigo का टिकट बुकिंग पर बंपर ऑफ़र, 899 रुपये में ले हवाई सफ़र का मज़ा

सिब्बल ने कहा कि महर्षि 24 अक्टूबर 2014 से 30 अगस्त 2015 तक वित्त सचिव थे। इसी बीच में प्रधानमंत्री मोदी 10 अप्रैल 2015 को पेरिस गए और राफेल सौदे पर हस्ताक्षर की घोषणा की। उन्होंने ने कहा, ‘‘ वित्त मंत्रालय ने इस सौदे की बातचीत में अहम भूमिका निभायी। अब यह साफ है कि राफेल सौदा राजीव महर्षि के की निगरानी में हुआ। अब वह कैग के पद पर हैं, हमने उनसे दो बार मुलाकात की 19 सितंबर और चार अक्टूबर 2018 को, हमने उनसे कहा कि इस सौदे की जांच की जानी चाहिए क्योंकि इसमें भ्रष्टाचार हुआ है। लेकिन वह खुद के खिलाफ कैसे जांच शुरू कर सकते हैं।’’

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: CAG report on Rafael Deal to be presented in Parliament today

More News From business

free stats