image

चंडीगढ़ : पंजाब विधानसभा सत्र के आखिरी दिन सुखबीर बादल द्वारा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के निवास पर सिख धर्म प्रचारक बलजीत सिंह दादूवाल के साथ मुलाकात का मुद्दा उठाया। इस दौरान आम आदमी पार्टी के विधायक एचएस फूलका ने कहा कि क्या मुख्यमंत्री जत्थेदार बलजीत सिंह दादूवाल से मिल भी नहीं सकते, क्या अकाली दल के समय भी कोई किसी जत्थेदार से नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि क्या किसी से मिलने का कोई अधिकार भी नहीं है। इसी मुद्दे को लेकर आम आदमी पार्टी कांग्रेस के समर्थन में आई और कहा कि वह उस प्रस्ताव के साथ हैं कि जहां पर मुख्यमंत्री ने इंक्वायरी की बात की है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। स्पीकर ने कहा कि अगर सदन की सहमति हो तो इस मुद्दे लेकर सुखबीर बादल ने जो आरोप लगाए हैं उसकी जांच के लिए हाउस कमेटी बनाई जाए। जिसे सुखपाल खैहरा ने समर्थन दिया। वहीं शून्यकाल में कंग्रेसी विधायक गुरकीरत कोटली ने सदन में अकाली दल प्रतिनिधिमंडल की ओर से बेअंत सिंह हत्याकांड के दोषी बलवंत सिंह राजोआणा की माफी की मांग का मुद्दा उठाया। कोटली ने कहा कि यह माहौल खराब करने की कोशिश है। बता दें कि विधायक गुरकीरत कोटली पूर्व मुख्यमंत्री के पौत्र है।

बता दें कि सोमवार को सुखबीर बादल ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के निवास पर सिख धर्म प्रचारक बलजीत सिंह दादूवाल के साथ मुलाकात का मुद्दा उठाया, जिस पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह स्पष्ट करते हुए कहा कि उनका निवास हाई सिक्योरिटी जोन में है वहां सी.सी.टी.वी. लगे हैं लिहाजा इसकी जांच कराई जाए। सदन में रिपोर्ट पेश होने के तुरंत बाद शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने मुख्यमंत्री और दादूवाल की बीती रात मुलाकात का मुद्दा उठाते हुए मुख्यमंत्री से स्पष्टीकरण की मांग की। इस पर मुख्यमंत्री ने कड़ा विरोध करते हुए कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाए ताकि सुखबीर के आरोपों का पर्दाफाश हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह दादूवाल को जानते तक नहीं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Aam Aadmi Party Has Given Support To Congress On The Issue Of Daduwal

More News From punjab

Next Stories
image

free stats