image

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए पहली बार शुरू किए गए चुनाव आयोग के निगरानीतंत्र को पिछले 7 चरण के मतदान के  दौरान फेसबुक, ट्विटर और यू ट्यूब सहित अन्य सोशल मीडिया माध्यमों के दुरुपयोग की लगभग 900 शिकायतें मिलीं। 7वें और अंतिम चरण का मतदान रविवार को खत्म होने के बाद आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक निर्वाचन नियमों का उल्लंघन करने वाली सबसे ज्यादा, 650 पोस्ट फेसबुक से हटाई गई। 

आयोग को मिली शिकायतों के आधार पर फेसबुक इंडिया ने 482 राजनीतिक किस्म की ऐसी पोस्ट हटाई जिन्हें मतदान से 48 घंटे पहले के प्रचार निषेध अवधि (साइलैंस पीरियड) में चस्पा किया गया था। इसके अलावा आयोग के निर्देश पर फेसबुक से 73 राजनीतिक विज्ञापन और मतदाताओं को भ्रमित करने वाली 43 पोस्ट को भी हटाया गया। इनमें 11 एक्जिट पोल से जुड़ी पोस्ट भी शामिल हैं। चुनाव आयोग में सोशल मीडिया निगरानी तंत्र के प्रभारी धीरेन्द्र ओझा ने बताया कि निर्वाचन नियमों का उल्लंघन करने वाली 220 पोस्ट ट्विटर से, 31 पोस्ट शेयर चैट से, 5 गूगल से और 3 व्हाट्सएप्प से पोस्ट हटाई गई। उन्होंने बताया कि पेड न्यूज के मामलों में इस चुनाव में काफी गिरावट दर्ज की गई। उन्होंने बताया कि पिछले 7 चरण के दौरान पेड न्यूज की कुल 703 शिकायतें मिली, इनमें से 647 शिकायतें सही पाई गई। पिछले चुनाव (2014) में पेड न्यूज के मामलों की संख्या 1,297 थी।  

3,449.12 करोड़ रुपए मूल्य की नकदी, शराब, मादक पदार्थ जब्त

चुनाव आयोग ने रविवार को कहा कि 10 मार्च को लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद से प्रवर्तन एजैंसियों ने 3,449.12 करोड़ रुपए मूल्य की नकदी, मादक पदार्थ, शराब और कीमती धातु आदि चीजें जब्त की हैं। आंकड़ों के अनुसार इस बार जब्त हुई चीजें 2014 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले 3 गुना ज्यादा हैं। चुनाव आयोग के महानिदेशक (चुनावी व्यय) दिलीप शर्मा ने कहा कि 2014 में 1,206 करोड़ रुपए मूल्य की चीजें जब्त की गई थीं। इस बार 10 मार्च से 19 मई के बीच 839.03 करोड़ रुपए की नकदी, 294.41 करोड़ रुपए मूल्य की शराब, 1270.37 करोड़ रुपए मूल्य के मादक पदार्थ, 986.76 करोड़ रुपए मूल्य का सोना और अन्य कीमती धातुएं तथा 58.56 करोड़ रुपए मूल्य की साड़ियां, कलाई घड़ियां तथा अन्य चीजें जब्त की गई हैं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: 900 cases of social media misuse huge drop in paid news

More News From national

IPL 2019 News Update
free stats