image

गुरदासपुर: हलका गुरदासपुर के विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा ने बताया कि पंजाब के सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे विद्यार्थियों को प्राइवेट स्कूलों के तर्ज पर अच्छे स्तर की शिक्षा मुहैया कराने के इरादे से शिक्षा विभाग, पंजाब द्वारा राज्य के कई सरकारी स्कूलों को स्मार्ट स्कूलों में बदला जा रहा है। इस सारी प्रक्रिया का मुख्य उद्देश्य अच्छे स्तर की शिक्षा प्रदान करवा कर शिक्षा प्रणाली को कारगर और आसान बनाना है। इस संबंधी जानकारी देते हुए हलका विधायक पाहड़ा ने बताया कि इस प्रोग्राम के अंतर्गत पूरे राज्य में खास तौर पर ग्रामीण क्षेत्र में 261 स्मार्ट स्कूल बनाए जा रहे हैं।

जानिए, आप बिना Keyboard के भी कैसे कर सकते हैं टाइपिंग

यह स्कूल मॉडल स्कूलों के तौर पर बनाए जाएंगे जहां अच्छे स्तर की शिक्षा मुहैया करवाने के लिए सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। स्मार्ट क्लास रूम, सौर ऊर्जा और अत्याधुनिक खेल सुविधाएं भी इन स्कूलों की अन्य विशेषताएं होंगी। उक्त मंतव्य की पूर्ति के लिए अब तक कुल 2769.09 लाख रुपए जारी किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न स्कूलों में 21000 के करीब स्मार्ट क्लास रूम बनाए जा रहे हैं जहां प्रोजैक्टर आदि जैसे कई आधुनिक आई.सी.टी. उपकरणों की सहायता से उच्च स्तरीय शिक्षा प्रदान की जाएगी। इस सम्बन्धी स्कूलों को ई-कंटैंट भेजा जा रहा है। 

सिर्फ 1,299 रुपए में Nokia ने लॉन्च किया अपना नया फोन Nokia 106

इन स्कूलों में पूर्व-प्राथमिक कक्षाएं शुरू की जा चुकी हैं और 3 से 6 साल के बच्चों के लिए नए दाखिले शुरू किए जा चुके हैं। 1.73 लाख विद्यार्थी विभिन्न स्कूलों के पूर्व-प्राथमिक सैक्शनों में दाखिला ले चुके हैं। विभाग द्वारा सभी सरकारी स्कूलों में पहली से आठवीं के विद्यार्थियों के सीखने के स्तर को और बढ़ाने के लिए ‘पढ़ो पंजाब, पढ़ाओ पंजाब’ नाम का प्रोग्राम भी शुरू किया गया है। राज्य के 2387 सरकारी माध्यमिक, हाई और सैकेंडरी स्कूलों में अंग्रेजी को मुख्य माध्यम के तौर पर लागू किया गया है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: 261 schools in Punjab are being given the form of smart schools

IPL 2019 News Update
free stats