image

मुंबईः भाजपा प्रमुख और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि अगर केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर भेजे गये सारे धन का वहां की पूर्ववर्ती सरकारों ने इस्तेमाल किया होता तो वहां के घरों की छतें सोने की हो गयी होतीं।

शाह ने रविवार को उपनगर गोरेगांव में एक रैली में कहा कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 वहां की सरकारों को भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) की स्थापना नहीं करने की इजाजत देता था, जिससे विकास कार्यों के लिये केंद्र द्वारा भेजे गये धन की ‘‘लूट’’ आसान हो गयी।

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘जम्मू कश्मीर की पूर्ववर्ती सरकारों ने भ्रष्टाचार रोधी कानून को लागू करने की अनुमति नहीं दी। यहां तक कि वहां कोई भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) नहीं था। इससे पहले की सरकारें घोर भ्रष्टाचार में लिप्त थीं। चूंकि वहां कोई एसीबी नहीं है, इसलिए जनता के लिये भेजी गयी रकम बेईमानी से हथिया ली जाती थी।’’ शाह ने दावा किया, ‘‘जम्मू कश्मीर में दो लाख 27 हजार करोड़ रुपया भारत (सरकार) का गया, अगर भ्रष्टाचार नहीं हुआ होता तो हर कश्मीरी के घर पर सोने के पत्तरे लग गये होते...।’’

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के केंद्र के फैसले पर यहां एक रैली में उन्होंने कहा कि केंद्र के इस फैसले से जम्मू कश्मीर में विकास होगा। उन्होंने कहा, ‘‘अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर की संस्कृति के संरक्षण के लिये नहीं बल्कि यह उनके (नेताओं के) भ्रष्टाचार के संरक्षण के लिये था।’’

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: If all the money sent by the Center had reached Jammu and Kashmir, the roofs of the houses there would have been gold: Shah

More News From maharashtra

Next Stories
image

free stats