image

नई दिल्लीः 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद एनआईए की टीम इस धमाके के सबूत जुटाने में जुट गई थी। इसी कड़ी में एनआईए को बड़ी कामयाबी मिली और एनआईए को कार मालिक तक पहुंचने का रास्ता कार की चाबी से मिल गया। जिस कार में विस्फोटक रखकर कार को उड़ाया गया था, उस कार में लगी चाबी ने कार मालिक तक पहुंचने में मदद की। 

एनआईए ने धमाके वाले स्थान का विश्लेषण किया और धमाके के स्थान पर मिले कार के अंशो को इकट्ठा करके उसे डिटेक्ट किया जिसके बाद उन्हें ये तो पता चल गया कि ये कार साल 2011 में बनी थी और फिर इसके लिए करीब 2,500 कारों की जांच की गई। लेकिन कार की चाबी की मदद से पता चला कि ये कार अनंतनाग में रहने वाले जैश-ए- मोहम्मद के लिए भर्ती करने वाले सज्जाद भट्ट की है और उसने हमले के करीब 10 दिन पहले ही गा़ड़ी खरीदी थी। 

Read More  हंदवाड़ा एनकाउंटर के शहीद का शव पहुंचा गांव, परिवार का रो-रोकर बुरा हाल

20 फरवरी को एनआईए की टीम को मेटल डिटेक्टर की मदद से धमाके वाले स्थान के 200 मीटर के स्थान की जांच करने के लिए भेजा गया था। इसके परिणामस्वरूप जांचकर्ताओं को गाड़ी की चाबी मिली। एनआईए जांचकर्ताओं ने जम्मू कश्मीर पुलिस और फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद से घटनास्थल को कई दिनों तक खंगाला ताकि गाड़ी के मालिक के बारे में कोई सुराग मिल सके।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनआईए की टीम घटनास्थल से मिले गाड़ी के हिस्सों को लेकर मारुती के इंजीनियर के पास पहुंची ताकि इस गाड़ी का निर्माण साल और तारीख का पता लग सके। इंजीनियर ने बताया कि यह गाड़ी 2011 में बनाई गई थी। इसके बाद एनआईए की टीम ने 2,500 कारों की जांच की।

Read More  राहुल के गढ़ में आज पीएम मोदी, 540 करोड़ की देंगे सौगात

एनआईए के एक जांचकर्ता ने कहा, 'हमें संभावित कार मालिक को लेकर संकेत मिला लेकिन इसके बावजूद असली मालिक तक पहुंचने में कुछ हफ्तों का वक्त लग गया।' इसके बाद एनआईए पुलवामा वापस चली गई। एक अधिकारी ने कहा, 'हमें अहसास हुआ कि धमाका बहुत जबर्दस्त था इसलिए इसके अवशेष केवल राजमार्ग पर नहीं बल्कि आसपास भी मिल सकते हैं। इसी वजह से हमने मेटल डिटेक्टर की मदद से 200 मीटर के क्षेत्र को स्कैन किया और हमें गाड़ी की चाबी मिली।'

एक सूत्र ने कहा, 'चेसिस नंबर के साथ कार की चाबियों ने वाहन पहचान संख्या (वीआईएन) की पहचान करने में मदद की जिसमें 19 अक्षर हैं और यह कार के लिए अलग होता है। अल्फान्यूमेरिक कोड की मदद से पहले मालिक का पता चला। कार कंपनियां आमतौर पर निर्माण के महीने और वर्ष को अंग्रेजी अक्षरों में विभाजित करती हैं और उनकी मदद से एनआईए कार के स्वामित्व की श्रृंखला का पता लगाने में सफल रही।'

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: With the help of key NIA reached to car owner which used in Pulwama Terror Attack

More News From national

Next Stories
image

free stats