image

नई दिल्ली: राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने इस बात से इनकार किया कि जम्मू-कश्मीर में दवाओं और आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी है और कहा कि मोबाइल और इंटरनेट पर रोक ने वहां कई लोगों की जान बचाने में मदद की। मलिक ने कहा कि जम्मू कश्मीर के विशे, दर्जो को हटाने के बाद और दोनों को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने के बाद से किसी तरह की हिंसा के कारण किसी की जान नहीं गई है। 
उन्होनें कहा कि  "अगर इंटरनेट की सुविधा को कुछ दिन के लिए बंद करने से जीवन को बचाने में मदद मिलती  है, तो नुकसान क्या है?"

मलिक ने कहा कि अतीत में, जब भी कश्मीर में कोई संकट आया, तो पहले सप्ताह में ही कम से कम 50 लोग मारे गए थे। "हमारा रवैया यह है कि लोगों की जान को कोई नुकसान नहीं होना चाहिए। उन्होनें कहा कि 10 दिन अगर टेलिफोन का इ्स्तेमाल नहीं हुआ तो क्या हुआ, लेकिन बहुत जल्द हम सब ठीक कर देंगे। 

मलिक ने कहा कि जम्मू और कश्मीर में कहीं भी दवाओं और आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी नहीं है और लोगों को खरीदने के लिए पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध हैं। "वास्तव में, हमने ईद पर लोगों के दरवाजे पर मांस, सब्जियां और अंडे दिए।"
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Satya Pal Malik statement on situation of Kashmir

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats