image

हिमाचल प्रदेश में शनिवार को लगातार मध्यम से भारी बारिश से कुछ क्षेत्रों में भूस्खलन होने से राजमार्ग अवरुद्ध हो गए हैं, वहीं प्रमुख नदियां और उनकी सहायक नदियां उफान पर हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राज्य के कांगड़ा शहर में सबसे अधिक 118 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि धर्मशाला में 115 मिली मीटर, डलहौजी में 84 मिली मीटर और पालमपुर में 64 मिली मीटर दर्ज की गई। वहीं राज्य की राजधानी शिमला में 40 मिली मीटर बारिश हुई।

स्थानीय मौसम कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि रविवार तक राज्य के कुछ स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है। लगातार बारिश से शिमला, किन्नौर, मंडी और कुल्लू जिलों में राष्ट्रीय राजमार्गों पर बड़े पैमाने पर भूस्खलन हुआ है, जिससे वाहनों का आवागमन बाधित हो रहा है। एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि राज्य की प्रमुख नदियां - सतलुज, ब्यास और यमुना, जो कि पड़ोसी राज्य पंजाब और हरियाणा से होकर गुजरती हैं, उनका जलस्तर भी बढ़ गया है।

धर्मशाला में चामुंडा मंदिर के साथ बहने वाली बुनेर खड्ड में बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है। चामुंडा मंदिर का थोड़ा सा हिस्सा पानी के तेज़ बहाव में बह गया है। वहीं पठानकोट-हिमाचल सीमा पर पड़ते चक्की पुल के नीचे पानी डरावनी स्थिति में बह रहा है। कुल्लू के निकट सैंज घाटी के निकट सड़क खिसकने से बंद रही। जिसकी प्रशासन ने सुध तक नहीं ली। लेकिन प्रशासन रेड अलर्ट जारी कर दिया है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Rivers took the form of a storm in Himachal, Administration issued red alert

More News From national

Next Stories
image

free stats