image

कैथल: राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले धरने के 44वें दिन 2 किसानों की तबीयत बिगड़ गई। मेहर सिंह (63) कृष्ण कुमार(45) दुलयानी जो लगातार 44 दिनों से धरने पर बैठने के कारण भारी रोष व अवसाद का शिकार है, कमजोरी के चलते बेहोश हो गए। किसान नेता राजेंद्र आर्य दादूपुर दोनों को तुरंत अस्पताल ले गए व दाखिल करवाकर इलाज करवाया। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र आर्य दादूपुर ने कहा कि शुरुआत में लगा कि दोनों किसानों ने या तो सल्फास खाया या कीटनाशक दवाई पी ली है। क्योंकि किसान सरकार व प्रशासन की अनदेखी के चलते आत्महत्या की धमकी दे रहे थे। 

घटना के तुरंत बाद किसान नेता राजेंद्र आर्य दादूपुर ने मुख्यमंत्री के नाम खुला ज्ञापन लिखा जिससे किसानों की सुनवाई करने बारे व किसानों के एक प्रतिनिधि मंडल को जल्द मुख्यमंत्री से मिलवाने बारे अपील की गई है। ज्ञापन में राजेंद्र आर्य ने कहा कि जिला कैथल के 16 गांवो के किसान 44 दिनों से नैशनल हाइवे 152 डी की अवार्ड बढ़वाने के लिए दुलयानी गांव में धरने पर बैठे है। ज्यादातर किसान सरकार द्वारा सुनवाई न होने के चलते रोष व अवसाद का शिकार है। लंबे आंदोलन से मानसिक व शारीरिक रूप से अस्वस्थ होने के कारण किसान कोई ऐसा कदम उठा सकते है, जिससे जान व माल की हानि हो सकती है। 

किसान नेता राजेंद्र आर्य दादूपुर ने बताया कि उनके प्रयासों से जिला जींद के 22 गांवों जिला चरखी दादरी के 17 गांवों की नैशनल हाइवे 152 डी की पहले घोषित अवार्ड के साथ एक ओर अतिरिक्त अवार्ड किसानों के हक में जारी की गई है, जिससे जींद व दादरी के किसानों का मुआवजा पहले से दोगुना हो गया है। परंतु सरकार कैथल, करनाल व कुरुक्षेत्र के किसानों के साथ भेदभाव कर रही है। उत्तरी हरियाणा के किसानों के साथ भेदभाव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भाजपा किसानों को जबरदस्ती विरोध के रास्ते पर धकेल रही है। राजेंद्र आर्य ने कहा कि आज भी सीटीएम, एसडीएम, तहसीलदार व नायब तहसीलदार को किसानों के हालात बारे सूचित कर दिया गया था। लेकिन कोई अधिकारी न तो धरनास्थल पे पहुंचे और न ही अस्पताल में। उन्होंने प्रशासन की इस लापरवाही पर भी रोष व्यक्त किया। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Situation on 2 farmers worsened

Next Stories
image

free stats