image

 

करनाल : पिछले दस दिनों में करनाल में प्लास्टिक की डोर का करोड़ां रुपए का अवैध व्यापार हो गया। इस दौरान न तो कर विभाग की नींद टूटी और ना ही प्रशासन व पुलिस की। इस प्लास्टिक की चाईनिज डोर से अनेको लोग व पक्षी घायल हुए। गौरतलब है कि प्रतिबन्ध के बावजूद बंसत पंचमी पर चाईनिज डोर के नाम से मशहूर प्लास्टिक की डोर का जम कर प्रयोग किया गया। प्रशासन व पुलिस ही नहीं सरकार भी इस डोर की बिक्री रोक पाने में पूरी तरह विफल रही है। हैरानी की बात यह है कि पुलिस ने एकाध छोटे दुकानदार को पकड़कर अपनी पीठ थपाथपाने की कोशिक की गई।  हैरानी की बात यह है कि यह डोर कहां से आई ओर कौन इसका होलसेल का व्यापारी है इस तरफ कुछ नहीं किया गया। पता चला है कि कर विभाग की नाक के नीचे इस डोर का सारा व्यापार ही अवैध तरीके से किया जाता रहा। ऐसी भी चर्चा है कि इस प्लास्टिक की डोर के लिए  राजनीतिक हस्तक्षेप का भी जमकर प्रयोग हुआ।

दीगर बात यह है कि पक्षियों व लोगों की जान से खिलवाड़ करके आखिर इस डोर का व्यापार किस किस के ईशारे पर किया गया यह जांच का विषय है। हालाकि डोर के गिटटे पर यह तो लिखा गया कि नाट फार फ्लांईग काईटस पर यह भी नहीं लिखा कि यह डोर किस प्रयोग के  लिए है जो कई सवाल खड़े करता है। उल्लेखनीय है कि बंसत पर ही इस डोर का ज्यादा व्यापार होता है गत दिवस बंसत तो चली गई पर इस डोर बिक्री को लेकर कई प्रशासन, पुलिस व कर विभाग पर कई सवाल मुंह बाये खड़े है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Illegal trading of hundreds of millions of plastic doors in ten days

More News From haryana

Next Stories
image

free stats