image

हरियाणाः बलात्कार के  दो मामलों में 20 साल की जेल की सजा काट रहा डेरा सच्चा सौदा का प्रमुख गुरमीत राम रहीम अब जेल से बाहर आने को पूरी तरह से बेताब है। इतना ही नही हरियाणा सरकार भी उसे पैरोल पर बाहर भेजने के लिए पुरजोर कोशिश कर रही है। इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सीएम मनोहर लाल खट्टर, जेल मंत्री कृष्ण पवार और स्वास्थय मंत्री अनिल विज ने खुद गुरमीत राम रहीम को जेल से बाहर लाने की पैरवी की है। उनका कहना है कि गुरमीत राम रहीम एक आम नागरिक के अधिकार के चलते पैरोल पर जेल से बाहर आने का हकदार है। 

नियमों के मुताबिक दो साल की सजा पूरी होने के बाद ही पैरोल दी जा सकती है, लेकिन गुरमीत राम रहीम ने दो साल पूरे होने से पहले ही पैरोल के लिए अर्जी दाखिल कर दी। उधर, सुनारिया जेल प्रशासन ने दो साल की अवधि पूरी होने से पहले ही पैरोल के आवेदन को स्वीकार कर यह साबित कर दिया है कि बाबा का दबदबा आज भी कायम है।

गौरतलब है कि हरियाणा में इस साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव होने हैं। गुरमीत राम रहीम के डेरे का मुख्यालय सिरसा में है। हरियाणा में उसके अनुयायियों की संख्या लाखों में है, अगर गुरमीत राम रहीम को पैरोल दी जाती है, तो इसमें एक और जहां सरकार का फायदा है। वहीं दूसरी और बाबा को भी खुली हवा में सांस लेने का मौका मिलेगा। उसके आ जाने से सिरसा में सुनसान पड़ा डेरा सच्चा सौदा फिर से गुलजार हो जाएगा। राम रहीम डेरे में लौटकर फिर से अपने समर्थक जमा कर सकता है, वहीं सरकार इसके एवज में अपना वोट बैंक मजबूत कर सकती है, हालांकि हरियाणा सरकार के इस फैसले का चारों और विरोध हो रहा है।

फिलहाल, गुरमीत राम रहीम के पैरोल के आवेदन ने हरियाणा के राजनीतिक सर्कल में फिर से हलचल पैदा कर दी है। देखना दिलचस्प होगा कि गुरमीत राम रहीम को जेल से छुट्टी मिलती है या फिर उसकी और भारतीय जनता पार्टी की एक दूसरे से फायदा उठाने की योजना धरी की धरी रह जाएगी।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Haryana goverment is Eager to gave parole to Ram Rahim

More News From national

Next Stories

image
free stats