image

फतेहाबाद: राष्ट्रीय आयुष मिशन के अंतर्गत आयुष विभाग द्वारा सोमवार को राष्ट्रीय नैचुरोपैथी (प्राकृतिक चिकित्सा) दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया। नागरिक अस्पताल के आयुष विंग में हुए इस कार्यक्रम में सिविल सर्जन डाॅ. मुनीष बंसल मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की जबकि डाॅ. हरीश यादव मुख्य वक्ता व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ के तौर पर उपस्थित हुए। मुख्यातिथि सिविल सर्जन डाॅ. मनीष बंसल ने आयुष विभाग के प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि खानपान में बदलाव कर स्वस्थ रहने के लिए इस सैमीनार व प्रदर्शनी का उद्देश्य बहुत सार्थक है। आज हम आधुनिक व पाश्चात्य जीवनशैली के आकर्षण में पुरानी शुद्ध परम्पराओं को भूलते जा रहे हैं। डाॅ. बंसल ने कहा कि मोबाइल व टीवी की वजह से व्यक्ति का बाहर आना जाना तथा शारीरिक व्यायाम कम हो गया है जिसके कारण लाइफ स्टाइल डिसॉर्डर, ब्लड प्रैशर, मधुमेह मोटापा व हृदय रोग को स्वयं आमंत्रण दे रहे हैं। 

डाॅ. मनीष बंसल ने एक तथ्य सांझा करते हुए कहा कि सर्वेक्षण में पाया गया है कि मोबाईल फोन पर टायलेट सीट से भी अधिक बैक्टीरिया होते है तथा बच्चे खाते हुए मोबाईल का प्रयोग साथ-साथ करते हैं। उन्होंनें साथ-साथ यह भी संदेश दिया कि बच्चे बड़ों का अनुसरण करते है इसलिए बड़ों को भी अपनी आदतों को सुधारना होगा व बच्चों के सामने उदाहरण प्रस्तुत करना होगा। कार्यक्रम के संयोजक जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. धर्मपाल पूनिया ने आए हुए अतिथियों का धन्यवाद किया। डाॅ. हरीश यादव ने अपने वक्तव्य में प्राकृतिक चिकित्सा के इतिहास को विस्तार से बताया। कार्यक्रम में डाॅ. बलवान सिंह, योग विशेषज्ञा अंबिका पांटा, डाॅ. शिक्षा कुमारी, डाॅ. दिनेश कुमार, डाॅ. राजेश कुमार, डाॅ. संजय पाल, डाॅ. विश्वजीत, डाॅ. अजीत कुमार, डाॅ. मुकेश कुमार, डाॅ. हरीश चन्द्र आदि मौजूद थे। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: CMO can stay healthy by making changes in food

More News From haryana

Next Stories
image

free stats