image

अहमदाबादः कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और गुजरात के विधायक अल्पेश ठाकोर ने आज स्वीकार किया कि वह राज्य की भाजपा सरकार में मंत्री बनने के इच्छुक थे पर अब उन्होंने इरादा बदल दिया है और वह अपनी पार्टी में रह कर ही लोगों के लिए संघर्ष करते रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि वह लोकसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहते क्योंकि उनकी रुचि गुजरात की ही राजनीति में हैं। उनकी पत्नी के भी लोकसभा चुनाव लड़ने की अटकले पूरी तरह गलत हैं क्योंकि वह कभी भी राजनीति में पदार्पण नहीं करेंगी। अल्पेश ठाकोर ने कहा कि उनकी राष्ट्रीय राजनीति की बजाय गुजरात की राजनीति में रुचि होने के कारण उन्होंने आलाकमान से उन्हें राष्ट्रीय सचिव पद की जिम्मेदारी से मुक्त करने का भी आग्रह किया है।

Read More  किसी भी वक्त हो सकता है लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान

लंबे समय से उनके पाला बदलने की अटकलों के बीच कल दिल्ली में पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल और अन्य वरिष्ठ नेताओं से मिल कर लौटने के बाद आज यहां संवाददाता सम्मेलन मेंं कहा यह बात सच है कि वह कांग्रेस पार्टी तथा इसके नेतृत्व से नाराज थे और यह नाराजगी उन्हें तथा उनके समर्थकों को उचित सम्मान नहीं मिलने के कारण था पर अब यह मामला हल हो गया है। आलाकमान ने ऐसा सुनिश्चित करने तथा हमारा सम्मान नहीं करने वालों के प्रति कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है।   

Read More  नीरव मोदी का बहाना पीएम पर निशाना, कांग्रेस ने कहा- मोदी है तो मुमकिन है
 
उन्होंने कहा कि वह मंत्री बनना चाहते थे और स्वयं इस बारे में (भाजपा से) इच्छा जतायी थी और बात भी की थी। मंत्री पद और सत्ता सबको अच्छी लगती है। वह अपने लोगों के लिए कुछ और अधिक करने के लिए ऐसा करना चाहते थे। पर उनके समर्थकों ने कहा कि वह उनके लिए ऐसे ही संघर्ष करते रहें। वह अगर चाहते तो छह माह पहले ही मंत्री बन गये होते। अब मैने कांग्रेस में ही रह कर संर्घष करते रहने का फैसला किया है। अगर मेरे समर्थक चाहेंगे तो मै केवल अपने संगठन ठाकोर सेना के लिए ही काम करते रहूंगा। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होने कहा कि वह नहीं मानते कि कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में जाने वाले और आज मंत्री पद की शपथ ले रहे पूर्व विधायक के साथ खरीद फरोख्त हुई है। वह उन्हें अपनी शुभकामना देते हैं। 

Read More  कोहली का शतक गया बेकार, ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 32 रनों से हराया

अल्पेश ठाकोर ने कहा कि कल तक वह बहुत उलझन में थे। वह और उनके साथी कांग्रेस विधायक धवल झाला (संवाददाता सम्मेलन में उनके साथ उपस्थित) रात भर जगे रहे। पर अब यह उलझन दूर हो गयी है। वह यह नहीं चाहते कि वह मंत्री बने तो लोग उन्हें बिकाऊ नेता कहें। वह सत्ता के बिना तो रह सकते हैं पर सम्मान के बिना नहीं रह सकते।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: alpesh thakor never left Congress in Future

More News From national

free stats